DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बदायूं  ›  लोडर पर सरकारी गाड़ी का नंबर लगाकर बदायूं में पशु तस्करी
बदायूं

लोडर पर सरकारी गाड़ी का नंबर लगाकर बदायूं में पशु तस्करी

हिन्दुस्तान टीम,बदायूंPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 03:51 AM
लोडर पर सरकारी गाड़ी का नंबर लगाकर बदायूं में पशु तस्करी

सरकारी गाड़ी की नंबर प्लेट लगाकर जिले में प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी की जा रही है। जिस गाड़ी की नंबर प्लेट लोडर में लगाकर तस्कर पशु तस्करी कर रहे हैं वह पुलिस के एक अधिकारी के नाम पर दर्ज है और राज्य मुख्यालय के नंबर की है। यह गाड़ी जिले में कहीं और नहीं बल्कि प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी के लिए बदनाम फैजगंज बेहटा थाना क्षेत्र में चल रही है।

बदायूं में सरकारी गाड़ी की नंबर प्लेट लोडर पर लगकर पशुओं की तस्करी हो रही है। ना तो तस्कर रात के अंधेरे का फायदा उठाते हैं और न ही गोपनीय रास्तों पर गाड़ी चलाते हैं। ताज्जुब तो यह है कि तस्कर पशुओं को लादकर दिन की रोशनी में हाईवे के रास्ते बदायूं से संभल के कसाईखानों तक ले जाते हैं और पुलिस रोकने-टोकने का साहस नहीं जुटा पाती।

गाड़ी जिले में कहीं और नहीं बल्कि प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी के लिए बदनाम फैजगंज बेहटा थाना क्षेत्र में चलती दिखाई दे रही है। एक लोडर वाहन प्रतिबंधित पशुओं को क्रूरता से लादकर ले जाता दिख रहा है। जिस तरीके से उसमें पशु लदे हुए हैं। फैजगंज बेहटा से रामपुर व संभल जिलों की सीमा लगती है, ऐसे में यहां से पशुओं को वहां ले जाने का काम इस वाहन से खुलेआम हो रहा है।

स्कार्पियो का है नंबर

लोडर वाहन पर यूपी - 32 बीजी 3157 नंबर की प्लेट लगी हुयी है। जो नंबर पड़ा है वह लखनऊ की गाड़ी का है और यह नंबर पुलिस के एक अफसर के नाम जारी हुआ है। तस्करों ने उसे लोडर पर लिख रखा है। बताया जाता है कि अभी तक गाड़ी रात में चलती थी, लेकिन पिछले कुछ दिनों से इस गाड़ी से दिन में ही तस्करी हो रही है।

एडीजी से की शिकायत

कुछ हिंदूवादी संगठनों के पदाधिकारियों ने जब गाड़ी का नंबर देख उसे विभिन्न एप पर खोजा तो नंबर सरकारी निकला। इसके बाद मामला भांपते देर न लगी कि तस्करों ने सरकारी गाड़ी का नंबर लगा रखा है। इसकी शिकायत एडीजी से भी की गयी है।

संबंधित खबरें