अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिले के 70 और लोगों मिला फाल्सीपेरम, नौ की मौत

जिले के 70 और लोगों मिला फाल्सीपेरम, नौ की मौत

संक्रामक रोगों के बीच फाल्सीपेरम मलेरिया ने जिले के जकड़ रखा है। यही कारण है कि जिले में बुखार के चलते जनता के बीच हाहाकार मचा हुआ है लोग बुखार से बीमार हो रहे हैं और कुछ देर बाद अपनी जान गवां दे रहे हैं। बुखार इतनी तेज आ रहा है वहीं रोजाना जिले में सैकड़ों की संख्या में लोग बुखार से बीमार हो रहे हैं।

अब तक जिले में बुखार से मरने वालों की संख्या 133 पर पहुंच गई है। इधर टीमों को जांचों के दौरान फाल्सीपेरम मलेरिया से पीड़ित मरीज भी मिले हैं।मंगलवार को फाल्सीपेरम मलेरिया के चलते स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा रहा है। जिले में स्वास्थ्य विभाग की टीमें सक्रिय रही हैं। वहीं जगह-जगह कैंप लगाए गए हैं और अफसर भी गांव में डेरा डाले रहे हैं।

जिससे की जिले में संक्रामक रोगों पर काबू पा सके। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने अपनी मंगलवार शाम को अपनी रिपोर्ट जारी किया है। जिसमें तीन लोगों को फाल्सीपेरम मलेरिया निकला है। इधर जिले में मंगलवार को नौ लोगों की बुखार से मरने के बाद संख्या 133 पर पहुंच गई है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग ने जारी की रिपोर्ट के अनुसार बताया गया है कि शासन स्तरीय टीमों के मार्गदर्शन में कार्यरत 04 ज़िला स्तरीय व 42 ब्लाक स्तरीय टीमें सक्रिय रहीं।

जिले में टीमों ने कुल 4603 रोगियों को उपचार एवं जांच की गई, तथा आरडीटी किट द्वारा 91 पीवी व 67 पीएफ रोगी चिन्हित किए गए। जिनका आरटी एवं एसीटी उपचार किया गया। इधर मलेरिया विभाग द्वारा 13 टीमें द्वारा नौ ग्रामों मे लार्वीसाइडल छिड़काव (तिगुलापुर, सेमरिया, छजऊ, बीरमपुर, इस्माईलपुर, गिधौल, छोटा व बड़ा परसुरा, मौजमपुर) 1 ग्राम के 285 घरों में पायरेथ्रम स्प्रे तथा नौ ग्रामों मे फॉगिंग कराई गई। इधर जिसमें बुखार के कुल 2765 रोगियों को उपचारित किया गया तथा 1037 रक्त पट्टिकाएं व 1247 आरडीटी किटों से जांच कराई गई, जिसें कुल 75 पीवी व 03 पीएफ को चिह्नित हुए। जिाला संक्रामक रोग नियंत्रण टीम के दो चिकित्सकों डॉ. जौन सिंह व डॉ. सोहेल खान पर कार्य में लापरवाही बरतने के संबंध में वेतन रोककर चेतावनी पत्र जारी कर दिया गया है।

जहां स्लाइडें नहीं बनाई जा रही हैं, उन्हें चेतावनी पत्र जारी कर दिया गया है।बुखार से महिला सहित तीन की मौतसैदपुर। ब्लॉक वजीरगंज क्षेत्र में संक्रामक रोगों का प्रकोप जारी बना हुआ है और जनता बीमारी से परेशान चल रही है। इसी बीच बुखार मलेरिया से तीन और लोगों की मौत हो गई। गांव हतरा निवासी जाहिद अली पुत्र हामिद अली 30 बर्ष की मंगलवार को बुखार से मौत हो गई।

गांव उरैना में सज्जाद खां पुत्र अमाअल्ला खां40 वर्ष की बुखार से मौत हो गई। इधर गांव ब्यौली निवासी रामदेवी पत्नी खेमकरन 50 वर्ष की बुखार से मौत हो गई। जाहिद अली को दो दिन पहले ही बुखार आया था उसे दिल्ली ले जाते समय रास्ते में चंदौसी पर दम तोड़ दिया। रामदेवी का इलाज निजि चिकित्सक बदायूं में चल रहा था। जहां उनकी मौत हो गई।

सज्जाद खां कुछ दिन पहले अपने परिवार के साथ ससुराल दिल्ली से आए बुखार आने पर बरेली के अस्पताल में उपचार ले रहे थे। जहां मौत हो गई।बुखार से बावट में दो की मौतकुंवरगांव। बुखार से सालारपुर विकास क्षेत्र के गांव बावट में दो की मौत हो गई। गांव निवासी अरविंद के तीन माह के नवजात शिशु प्रशांत की बुखार से सोमवार देर शाम को मौत हो गई। गांव की मुन्‍नी पत्‍नी मीहलाल की मंगलवार सुबह बुखार से मौत हो गई। वह एक सप्‍ताह से बुखार से बीमार थी।बुखार ने निगल लीं दो और जिंदगीउझानी। ब्लाक क्षेत्र में संक्रामक रोगों के हाहाकार मचा हुआ है लोगों को तेजी से बुखार आ रहा है।

दर्जनों की संख्या में लोग बीमार हो रहे हैं, वहीं लोग बुखार के चलते मौत के शिकार भी हो रहे हैं। ब्लाक क्षेत्र के गांव सकरी जंगल में दो दिन पूर्व जमील की 30 वर्षीय पत्नी शहजहां बेगम और इसी गांव के 40 वर्षीय किसान बाबू पुत्र सुम्मेर की उपचार के दौरान जान चली गई। गांव में दोनों की मौत को ग्रामीणों ने बुखार से बताया है। कि बुखार तेजी से बुखार आया और उपचार कराने से पहले ही मौत हो गई। बुखार से बच्ची की मौतविजयनगला।

संक्रामक रोगों का कहर जगत ब्लाक में जारी बना हुआ है, ब्लाक क्षेत्र में रोजाना मौतों का कहर जारी बना हुआ है। वहीं सैकडों की संख्या में लोगों की मौत हो रही है। इसी बीच एक बच्ची और बुखार से मौत हो गई। ब्लाक क्षेत्र के गांव जगुआसेई निवासी शेर सिंह की 13 वर्षीय पुत्री हिमांशी की बुखार आने से मंगलावर को मौत हो गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:70 people found in district falsi param nine deaths