30 crore fertilizer scam in PCF FIR - पीसीएफ में तीन करोड़ की खाद का घोटाला, एफआईआर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीसीएफ में तीन करोड़ की खाद का घोटाला, एफआईआर

पीसीएफ में तीन करोड़ की खाद का घोटाला, एफआईआर

किसानों के बीच खाद का संकट बना रहा और माफियाओं से मिलकर अधिकारियों ने खाद में घोटाला कर डाला। एक वर्ष पहले 3,427 मैट्रिक टन खाद कहां बेच डाली, किसी को कानोकान हवा नहीं लगी। इसका भंडाफोड़ शनिवार को जिला प्रशासन की जांच कमेटी ने कर दिया है। पहला तीन करोड़ का और दूसरा लाखों रुपए का घोटाला सामने आया है। एनपीके गायब करने के मामले में तीन पर मुकदमा दर्ज करा दिया है और तीन करोड़ के मामले में डीएम ने रातोंरात रिपोर्ट मांगकर एफआईआर करने के निर्देश दिए हैं।

हिन्दुस्तान के यूरिया संकट की खबर के बाद की गई शिकायत पर शनिवार को डीएम दिनेश कुमार सिंह ने टीम बनाकर जांच कमेटी भेजी। कमेटी को देखकर शहर के एसके फील्ड पास बने गोदाम से इंचार्ज तो भाग निकला, लेकिन रिकार्ड चेक करने के बाद सामने आया है कि स्टाक में करीब तीन करोड़ रुपये की खाद गायब है। प्रथम दृष्टया जांच के बाद डीएम ने एआर कोआरपोरेटिव राधवेंद्र सिंह तथा प्रभारी पीसीएफ प्रबंधक अशोक कुमार शर्मा को जांच सौंपी है। वहीं तत्कालीन पीसीएफ प्रबंधक समेत संबधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई व एफआईआर के निर्देश दिए हैं। इधर इसी पीसीएफ में 969 मैट्रिक टन एनपीके गायब होने के मामले में प्रभारी पीसीएफ प्रबंधक अशोक कुमार शर्मा द्वारा नेम सिंह पुत्र अंगनलाल वार्ड नौ कछला उझानी, बदन सिंह पुत्र रामस्वरूप रिनोईया उझानी, मुनीश चंद्र पुत्र रामदास पड़ौआ पर सिविल लाइंस थाना में खाद गायब होने के मामले में मुकदमा दर्ज कराया है। तीन करोड़ के मामले में डीएम ने एआर से रातोंरात जांच रिपोर्ट मांगी है। बता दें कि पूर्व पीसीएफ प्रबंधक अनिल गुप्ता के समय में पीसीएफ से डीएपी, यूरिया, एनपीके 4,327 मैट्रिक टन खाद का घोटाला किया गया है। खाद प्लांट से आने के बाद गोदाम तक नहीं पहुंची, लेकिन स्टाक में पूरी दर्ज की गई और नहीं कोई वितरण किया गया। रास्ते में ही खाद का सौदा कर लिया गया। जिसका घोटाला अब खुला है।

शिकायत पर प्रथम दृष्टया जांच कराई तो तीन करोड़ की खाद का घोटाला पीसीएफ में सामने आया है। एआर कोआपरेटिव से तत्काल जांच रिपोर्ट मांगी है। सभी दोषी अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के साथ विभागीय कार्रवाई भी कराई जाएगी।दिनेश कुमार सिंह, डीएम बदायूं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:30 crore fertilizer scam in PCF FIR