DA Image
2 मार्च, 2021|10:36|IST

अगली स्टोरी

सांस की तकलीफ से परेशान युवती की मौत से हड़कंप

सांस की तकलीफ से परेशान युवती की मौत से हड़कंप

जहानागंज थाना क्षेत्र के एक गांव की एक युवती की मौत के बाद से शुक्रवार से ही हड़कंप की स्थिति है। उस युवती को स्वाइन फ़लू व कोरोना वायरस की आशंका से लोग इतना घबरा गए कि पति व भाई के अलावा अन्य संबंधियों ने उसे जीवित हालत में ही छोड़ दिया। लखनऊ में पीजीआई के बाहर हुई मौत के बाद परिजनों के आरोप पर जब सदर अस्पताल में चीरघर में पोस्टमार्टम हुआ तो सहमे कर्मचारी ने अपने सभी कपड़े व अन्य उपयोग में लाई गई वस्तुओं को जला दिया।

24 वर्षीय युवती का पति दिल्ली में एक प्राइवेट नौकरी करता है। होली पर वह घर आया था। उसकी पत्नी को पिछले दो वर्षो से सांस की तकलीफ थी। उसे धूल आदि से एलर्जी की समस्या थी। होली के दिन उसकी तबीयत थोड़ी खराब हो गई। उसके पति ने उसे शहर के एक अस्पताल में 12 मार्च को दिखाया। ठीक नहीं होने पर 13 को सिधारी के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। उसे छाती में संक्रमण व अस्थमा की शिकायत थी। सांस लेने में उसे काफी दिक्कत होने के चलते चिकित्सकों ने उसे 14 की रात में बीएचयू रेफर कर दिया। 16 मार्च तक वह वहां रही। इसके बाद 16 को ही एक निजी नर्सिंग होम में इलाज कराने के बाद लखनऊ के सहारा हास्पिटल में रेफर कर दी गई। उसके पति ने बताया कि 17 को सहारा ने उसे स्वाइन फ्लू व कोरोना वायरस होने की आशंका जताते हुए पीजीआइ रेफर कर दिया। वहां उसे बेड न खाली होने की बात कह कर लौटा दिया गया। इस बीच उसके भाई को छोड़ अन्य सभी परिजनों ने हमारा साथ छोड़ दिया। उसे केजीएमयू ले गए वहां चिकित्सकों ने रिपोर्ट व पूछताछ के बाद कहा इसे कोरोना वायरस नहीं है। इस बीच लौटते समय उसने दम तोड़ दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Stirred with death of a woman troubled by shortness of breath