DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › आजमगढ़ › दो दिन से हो रही बारिश से धान की फसल को मिली जान
आजमगढ़

दो दिन से हो रही बारिश से धान की फसल को मिली जान

हिन्दुस्तान टीम,आजमगढ़Published By: Newswrap
Thu, 16 Sep 2021 11:50 PM
दो दिन से हो रही बारिश से धान की फसल को मिली जान

आजमगढ़। दो दिन से जनपद में हो रही रिमझिम बारिश से धान की फसल को जान मिल गई है। इससे पहले सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी न मिलने से वह सूखने के कगार पर पहुंच गयी थी। लगातार बरसात से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बाजारो में सन्नाटा है। गुरुवार को लोग भीगते हुए कार्यालय पहुंचे। छात्र-छात्राओं को भी स्कूल जाने के लिए भीगना पड़ा। लगभग एक पखवारे से बारिश न होने के कारण गर्मी काफी बढ़ गई थी। तेज धूप व उमसभरी गर्मी से लोग बेहाल थे। दो दिन पहले शुरू हुई रिमझिम बारिश से मौसम सुहाना होने से लोगों को काफी राहत मिली है। लगातार बारिश होने से सड़कों पर जलभराव हो गया है। कई स्थानों पर सड़कों पर गडढों में पानी भरने से कई लोग गिरकर चोटिल हो गए। मौमस विभाग ने जिले में 24 घंटे में 5.28 एमएम बारिश रिकार्ड की। अगले दो दिन तक बारिश होने की संभावना जताई गई है। लगातार बरसात व तेज हवा से गन्ने की फसल प्रभावित हुई है। कई स्थानों यह गिर गई है। इससे किसानों की चिंता बढ़ गयी है। धान की फसल के लिए यह बारिश संजीवनी मानी जा रही है। खेतों में पानी भरने से काश्तकारों के चेहरे खिल गए हैं। धान की फसल की सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी की जरूरत थी जो इस बरसात से पूरी होती दिख रही है। लगातार बारिश व तेज हवा से बिजली आपूर्ति व्यवस्था बाधित है। मेंहनगर क्षेत्र के भीखमपुर गांव में दो दिन से बिजली आपूर्ति व्यवस्था ठप है। गुरुवार को भी पूरे दिन पानी बारिश जारी रही। मदियापार मोड़ के पास बुधवार देर रात बारिश के दौरान सड़क किनारे खड़ी पिकअप पर शीशम का पेड़ गिर पड़ा। इससे वाहन क्षतिग्रस्त हो गया। उधर, इस घटना के बाद गुरुवार को तीन-चार घंटे तक आजमगढ़-लखनऊ मुख्य मार्ग पर यातायात पूरी तरह बाधित रहा। इससे लोगों को आने-जाने में काफी परेशानी हुई। वन विभाग के लोगों ने सड़क पर गिरे पेड़ को काटकर रास्ता साफ किया। रानीपुर क्षेत्र के चक नोनिया गांव में गुरुवार दिन में बारिश के कारण गिरे कच्चे मकान के मलबे में दबकर महिला की मौत हो गई। हादसे में उसका पति गंभीर रूप से घायल हो गया। चक नोनिया गांव निवासी 60 वर्षीया उनती गोंड का कच्चा मकान था। गुरुवार दिन में वे अपने मकान में बैठे हुए थे। इस बीच, दोपहर में तेज बारिश शुरू हो गई। इस दौरान गिरे कच्चे मकान के मलबे में वृद्ध दपंती दब गया। लोगों ने मलबा हटाकर वृद्ध पति-पत्नी को बाहर निकला। हादसे में उनती गोंड की मौत हो गयी। उसके घायल पति सरजू गोंड को लोगों ने अस्पताल पहुंचाया। निजामाबाद के तहसीलदार शैलेन्द्र सिंह ने राजस्व टीम को मौके पर भेजा।

संबंधित खबरें