DA Image
24 अक्तूबर, 2020|2:50|IST

अगली स्टोरी

आजमगढ़ महायोजना पर पड़ी आपत्तियों की हुई सुनवाई

default image

जिलाधिकारी राजेश कुमार की अध्यक्षता में नेहरू हाल सभागार में बुधवार को प्रस्तावित आजमगढ़ महायोजना-2031 पर पड़ी आपत्तियों के लिए गठित समिति के समक्ष सुनवाई की गयी। इस दौरान प्रस्तावित औद्योगिक भूमि को आवासीय में बदलने के लिए कई लागों के दावों की सुनवाई की गई। इसके अलावा इंडस्ट्रीयल एरिया में स्कूलों के पास नहीं हो रहे नक्शा के मामलों की भी सुनवाई की गई।

इस अवसर पर मौजा कोटवा के गाटा सं. 341 के हल्के एवं मध्यम उद्योग प्रस्तावित भू-उपयोग, मौजा कोडर अजमतपुर के गाटा संख्या 394/2मि. में रकवा 0.022 हेक्टेयर पर प्रस्तावित औद्योगिक भू-प्रयोग को बदल कर आवासीय करने,मौजा कम्हेपुर अराजी सं. 128, 413, 423, 886, 464, 268, 572, 769, 249, ग्राम देवखरी के अराजी संख्या 180, 346 एवं ग्राम सभा दरौरा के अराजी संख्या 248 के औद्योगिक भू-प्रयोग को बदलकर कृषि भूमि करने, ग्राम सभा हरैया के अराजी सं. 60, 59 एवं ग्राम सभा देवखरी के अराजी सं. 110, 102, 142 व 140 के औद्योगिक भू-प्रयोग को बदलकर कृषि भूमि करने, मौजा खदरा के प्रस्तावित औद्योगिक भू-प्रयोग के स्थान पर पूर्व की भांति हरित पट्टी ही रहने देने, मौजा रामपुर के अराजी सं0 382 के प्रस्तावित भू-उपयोग सुविधाएं/कारागार को निरस्त कर आवासीय करने आदि से संबंधित आपत्तिकर्ताओं के व्यक्तिगत दावों की सुनवाई की गयी।

आजमगढ़ विकास प्राधिकरण के ऐसे क्षेत्र जहां पर पहले से इंडस्ट्रीयल एरिया घोषित है एवं ऐसे स्कूल, जो आजमगढ़ विकास प्राधिकरण के क्षेत्र में आ गए हैं, लेकिन उनका नक्शा अभी पास नहीं हो रहा है। जिलाधिकारी ने उनसे संबंधित सभी व्यक्तियों के व्यक्तिगत दावों की सुनवाई की ।

इस अवसर पर सीआरओ हरी शंकर, एसडीएम सदर/ज्वाइंट मजिस्ट्रेट (आईएएस) गौरव कुमार, एडीए सचिव बैजनाथ, नगर नियोजक, नगर पाजिका के ईओ आदि उपस्थित रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hearing of objections on Azamgarh master plan