DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश आजमगढ़घाघरा में पानी बढ़ते ही शुरू हुई कटान

घाघरा में पानी बढ़ते ही शुरू हुई कटान

हिन्दुस्तान टीम,आजमगढ़Newswrap
Sat, 23 Oct 2021 03:13 AM
सगड़ी तहसील क्षेत्र के देवरांचल से होकर बहने वाली घाघरा नदी में नेपाल से पानी बढ़ने व बनबसा बैराज से छोड़े जाने से नदी का जलस्तर बढ़ गया...
1/ 2सगड़ी तहसील क्षेत्र के देवरांचल से होकर बहने वाली घाघरा नदी में नेपाल से पानी बढ़ने व बनबसा बैराज से छोड़े जाने से नदी का जलस्तर बढ़ गया...
सगड़ी तहसील क्षेत्र के देवरांचल से होकर बहने वाली घाघरा नदी में नेपाल से पानी बढ़ने व बनबसा बैराज से छोड़े जाने से नदी का जलस्तर बढ़ गया...
2/ 2सगड़ी तहसील क्षेत्र के देवरांचल से होकर बहने वाली घाघरा नदी में नेपाल से पानी बढ़ने व बनबसा बैराज से छोड़े जाने से नदी का जलस्तर बढ़ गया...

लाटघाट। हिन्दुस्तान संवाद

सगड़ी तहसील क्षेत्र के देवरांचल से होकर बहने वाली घाघरा नदी में नेपाल से पानी बढ़ने व बनबसा बैराज से छोड़े जाने से नदी का जलस्तर बढ़ गया है। बीते चौबीस घंटे के भीतर नदी का जलस्तर 61 सेमी. तक बढ़ा है। पानी बढ़ने के साथ ही जहां कटान शुरू हो गई है। वहीं फसलें पुन: जलमग्न हो गई हैं। इससे तटवर्तीय इलाके के लोगों की जहां धड़कनें बढ़ गई हैं,वहीं प्रशासन भी गतिविधियों पर नजर रखे हुए है।

घाघरा नदी में गुरुवार को शारदा व बनबसा बैराज से पानी छोड़ा गया है। नदी में अचानक बांध का पानी आ जाने से नदी का जलस्तर बढ़ने लगा है। 24 घंटे के भीतर नदी का जलस्तर 61 सेमी. की वृद्धि दर्ज की गई। जिले के महुला गढ़वल बांध के उत्तर नदी फिर से उफान पर है। इस कारण कस्बा सहित तटवर्ती इलाकों के लोगो में हड़कंप मच गया है। घाघरा का जलस्तर गुरुवार को बदरहुवा पर 70.95 मीटर रहा। जो 61 सेमी. बढ़कर शुक्त्रवार को 71.56 मीटर हो गया। डिघिया नाले पर गुरुवार को 70.34 से 57 सेमी बढ़कर शुक्त्रवार को 70. 91 पर पहुंच गया है। तटवर्ती इलाके के लोगों की मानें तो नदी के जलस्तर में वृद्धि का क्रम बरकरार रहा तो जलस्तर खतरा बिंदु पार कर जाएगा।

एडीएम वित्त ने किया निरीक्षण

लाटघाट। एडीएम वित्त/राजस्व आजाद भगत सिंह ने शुक्रवार को घांघरा नदी के कटान से हुई छति और अतिवृष्टि से हुए किसानों के नुकसान का जायजा लेने पहुंचे। इस दौरान महुला गड़वल बांध के उत्तर कटान स्थल पर पहुंचे। जिन किसानों की जमीन फसल नष्ट हुई है। उनको राजस्व कर्मी से मूल्यांकन कराकर मुआवजा उचित दिलाने का आश्वासन किया। बता दें कि गागेपुर, चक्की और परसिया में 100 हेक्टेयर से अधिक जमीनें कटान के चलते नदी में समा गए हैं। जिससे कई किसान भूमिहीन हो गए हैं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें