DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  आजमगढ़  ›  दूसरे की जमीन बेचने वाले पांच जालसाज गिरफ्तार
आजमगढ़

दूसरे की जमीन बेचने वाले पांच जालसाज गिरफ्तार

हिन्दुस्तान टीम,आजमगढ़Published By: Newswrap
Sat, 19 Jun 2021 03:12 AM
दूसरे की जमीन बेचने वाले पांच जालसाज गिरफ्तार

आजमगढ़। संवाददाता

सिधारी थाने की पुलिस ने शुक्रवार को विश्वकर्मा मंदिर के पास घेराबंदी कर पांच जालसाजों को गिरफ्तार कर लिया। इन आरोपियों ने फर्जी तरीके से दूसरे के नाम का आधार कार्ड बनाकर अपने सगे भाई की लाखों रुपये मूल्य की जमीन का दूसरे को बैनामा कर दिया है। पुलिस ने आरोपियों के पास से लैपटाप, प्रिंटर, स्कैनर, आधार कार्ड, और निर्वाचन कार्ड आदि बरामद किया। पुलिस गिरफ्तार बदमाशों का चालान कर दिया है, जबकि इस रैकेट से जुड़े अन्य सदस्यों की तलाश में पुलिस जुटी है।

प्रभारी निरीक्षक सिधारी धर्मेंद्र कुमार पांडेय के मुताबिक गिरफ्तार किए जाने वालों में रानी की सराय थाने के हेमजापुर गांव निवासी रमेश यादव, रानी की सराय थाने के रेंदुआ गांव निवासी त्रिभुवन, सिधारी थाने के समेंदा गांव निवासी राजू कुमार, मुबारकपुर थाने के बनकट गांव निवासी संतोष कुमार और मुबारकपुर थाने के महलिया गांव निवासी धनंजय कुमार का नाम शामिल है। इनके पास से एक लैपटाप, एक रंगीन प्रिंटर, एक स्कैनर, एक मैजी कार्ड प्रिंटर, दो आधार कार्ड और सात निर्वाचन कार्ड बरामद हुआ।

प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि रानी की सराय थाने के हेमजापुर गांव निवासी रामेश्वर ने सिधारी थाने में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज कराई कि 15 जनवरी को रामेश्वर का भाई रमेश यादव अपने गिरोह के सदस्यों के साथ मिलकर रामेश्वर के नाम का फर्जी आधार कार्ड बनाकर रामेश्वर के हिस्से की जमीन का बैनामा कर दिया। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि केस दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही थी। शुक्रवार को मुखबिर के जरिए सूचना मिलने पर पुलिस घेराबंदी कर इन पांचो आरोपियों को सिधारी क्षेत्र में स्थित विश्वकर्मा मंदिर के पास से गिरफ्तार कर ली। पूछताछ के दौरान पता चला कि इन जालसाजों का अच्छीखासी गिरोह है। यह लोग क्षेत्र के लोगों की फर्जी तरीके से कागजात बनाकर जमीन का बैनामा कर देते हैं। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि इस गिरोह से जुड़े अन्य सदस्यों की तलाश की जा रही।

फोटो स्टेट की दुकान से तैयार हुआ था फर्जी कागजात

प्रभारी निरीक्षक सिधारी धर्मेंद्र कुमार पांडेय ने बताया कि गिरफ्तार रमेश यादव से हुई पूछताछ के दौरान उसने बताया कि जमीन का पैनामा करने के लिए वह 14 जनवरी को सिविल लाइन मुहल्ले में स्थित राजू, काजू फोटो स्टेट से फर्जी आधार कार्ड सहित अन्य कागजात बनवाने के लिए पहुंचा। इस दौरान राजू ने अपने परिचित संतोष यादव के जरिए कागजात तैयार करवाया।

संबंधित खबरें