DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज हत्या के आरोपी पति को 10 वर्ष की कारावास

दहेज हत्या के मुकदमे में सुनवाई पूरी करने के अदालत ने आरोपी पति को दस वर्ष के कारावास तथा 15 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई। जबकि पर्याप्त सबूतों के अभाव में सास, ससुर व ननद को दोषमुक्त कर दिया। यह फैसला गुरुवार को अपर सत्र न्यायाधीश कोर्ट नंबर-तीन संतोष कुमार तिवारी ने सुनाया।
अभियोजन कथानक के अनुसार वादी मुकदमा देवराज चौहान पुत्र दशरथ चौहान निवासी चकवाली रामपुर थाना बहरियाबाद जिला गाजीपुर ने अपनी पुत्री नीलम की शादी घटना से लगभग तीन वर्ष पूर्व जितेंद्र चौहान पुत्र रामबली चौहान निवासी सिंहपुर सरैया थाना तरवां जिला आजमगढ़ के साथ किया था। शादी के बाद ससुराल में पति जितेंद्र चौहान, ससुर रामबली चौहान, सास माधुरी देवी तथा ननद उषा दहेज में मोटरसाइकिल व सोने की चेन की मांग को लेकर नीलम को आये दिन प्रताड़ित करते थे। अंतत: तीन सितंबर 2014 को दिन लगभग तीन बजे ससुराल में नीलम की जलाकर हत्या कर दी गयी। एडीजीसी विनोद कुमार यादव ने वादी मुकदमा समेत कुल नौ गवाहों को अदालत में परीक्षित कराया। दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद अदालत ने आरोपी पति जितेंद्र चौहान को दस साल की कारावास तथा 15 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाया। वही पर्याप्त साक्ष्य के अभाव में मृतका नीलम के ससुर रामबली चौहान, सास माधुरी देवी तथा ननद उषा को दोषमुक्त कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dowry convict husband sentenced to 10 years imprisonment