DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पारा चढ़ने के साथ ही घरों में दुबके लोग

जनपद में पड़ रही भीषण गर्मी के चलते लोग सुबह सुबह काम निपटाकर घरों में दुबकने को मजबूर हो रहे हैं। वहीं बिजली कटौती ने लोगों को मुश्किलें और बढ़ा दी है। गर्मी और बिजली की कटौती से किसानों की खेती बारी पर खराब प्रभाव पड़ रहा है। 

मई महीने में ही पड़ रही भीषण गर्मी ने लोगों की दिनचर्या खराब कर दी है। अधिकतर लोग सुबह से उठकर अपने काम निपटाकर घरों में दुबकने को मजबूर हो रहे हैं। दिन में सड़कें वीरान नजर आ रही हैं। सामान्य दिनों की अपेक्षा बाजार भी दिन में सून सान हो जा रहे हैं। दिन में घरों से निकलने की मजबूरी पर लोग शरीर को पूरी तरह से कपड़ों से ढक कर निकल रहे हैं। घरों में लोगों को बिजली की कटौती से चैन नहीं मिल रहा है। गर्मी के मारे जनता बेहाल है। तालाबों और पोखरों में पानी सूख जाने के कारण जंगली जानवर और पंक्षी भी पानी के लिए भटक रहे हैं। लोग गर्मी में होने वाली तमाम बीमारियों की जद में आ रहे हैं। बस स्टाप, रेलवे स्टेशन और बाजारों में लोग पानी के लिए परेशान हो रहे हैं। उधर बिजली की कटौती और भीषण गर्मी के चलते किसानों की खेती बारी पर बुरा असर पड़ रहा है। खेतों में लगी फसलें सूख रही हैं। जिसके चलते किसानों के माथे पर लकीरें बढ़ती जा रही हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में लो वोल्टेज बिजली की आपूर्ति भी लोगों की मुश्किलें बढ़ा रही है। 

बिजली कटौती से रोजेदार परेशान
क्षेत्र में रात और दिन में हो रही भीषण बिजली की कटौती से आम जन के साथ ही रोजेदारों की मुश्किलें बढ़ गयी हैं। रोजेदारों की उम्मीद थी कि रमजान में क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति में सुधार होगा। लेकिन सुधार के बजाय बिजली की कटौती दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही है। जिसके चलते पूरे दिन रोजेदार परेशान हो रहे हैं। रोजेदारों का कहना है कि जो कुछ भी आपूर्ति हो रही है उसका अधिकांश भाग लोकल फाल्ट और लो वोल्टेज की भेंट चढ़ जा रहा है। क्षेत्र में मो फैसल, आदिल, मो सलमान, सोहराब सिद्धिकी, आतिफ, शाहनवाज आदि का कहना है कि बिजली कटौती से काफी परेशानी हो रही है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Along with climbing mercury