DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

70 सेवानिवृत्त शिक्षकों का हुआ सम्मान समारोह

विकास खण्ड के ब्लाक संसाधन केन्द्र के परिसर में बुधवार को शिक्षोन्नयन गोष्ठी व सेवानिवृत्त शिक्षकों का सम्मान समारोह हुआ। इस दौरान 70 सेवानिवृत्त शिक्षकों को सम्मानित किया गया। साथ ही उन्हें शाल व धार्मिक पुस्तकें भेंट किया गया। 

मुख्य अतिथि एडी बेसिक योगेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि अवकाश प्राप्त शिक्षक अपने पुराने विद्यालयों में जाते रहें। इससे उन विद्यालयों के कार्यरत शिक्षकों को नई ऊर्जा मिलती रहेगी। परिषदीय विद्यालयों में गरीबी, दरिद्रता का अंतिम दंश झेल रहे परिवार के ही बच्चे यहां पढ़ने आते है। इन बच्चों को सजा संवारकर योग्य नागरिक व महानतम बनाने की नैतिक जिम्मेदारी शिक्षकों की ही है। शिक्षक को समाज का पथ प्रदर्शक कहा जाता है। आज आवश्यकता है कि शिक्षकों के आत्म विश्लेषण व जागरण की। शिक्षकों का काम बच्चों को ज्ञान देना ही नहीं है, उसका बोध कराना भी है।

डॉ.रविन्द्र नाथ राय ने कहाकि शिक्षक कभी सेवानिवृत्त नहीं होता। समाज  को उसकी हमेशा जरुरत पड़ती है। वह समाज का पथ प्रदर्शक होता है। डॉ.हरिसेवक पांडे ने कहा कि शिक्षा आज विषम परिस्थितियों से गुजर रही है। ऐसे में शिक्षक के सामने एक चुनौती है। शिक्षकों को सामने बैठे हर बच्चे को सुदामा-कृष्ण व राम मानकर अच्छी शिक्षा  देने की जरुरत है। समाज को शिक्षकों से बहुत कुछ अपेक्षाएं हैं। जब तक राजनीति में गुणवत्ता नहीं आयेगी। तब तक शिक्षा में गुणवत्ता नहीं आ सकती है। खंड शिक्षा अधिकारी महेंद्र  प्रसाद ने सभी का आभार जताया। अध्यक्षता डॉ.द्विजराम यादव व संचालन डा.हरिकेश मिश्रा ने किया। इस मौके पर आयोजक ज्ञानशंकर राय, अखिलेश राय, इंद्रप्रताप यादव, महेंद्रपुरी, दिनेश कन्नौजिया, घनश्याम यादव, अनिल श्रीवास्तव, योगेन्द्र यादव, शशिभूषण सिंह  आदि उपस्थित रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:70 renowned teachers honored