ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश अयोध्यासीवर लाइन के लिए बने मेनहाल के आसपास हो रहे गड्ढे

सीवर लाइन के लिए बने मेनहाल के आसपास हो रहे गड्ढे

अयोध्या, संवाददाता। शहर के गली मोहल्लों में सीवर पाइप लाइन डालने का कार्य तेजी...

सीवर लाइन के लिए बने मेनहाल के आसपास हो रहे गड्ढे
default image
हिन्दुस्तान टीम,अयोध्याThu, 13 Jun 2024 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या, संवाददाता। शहर के गली मोहल्लों में सीवर पाइप लाइन डालने का कार्य तेजी से चल रहा है। विभिन्न मोहल्लों में जहां अभी तक सीवर पाइप नहीं पडे़ थे, वहां पाइप लाइन डाली जा रही है। लेकिन मुख्य मार्गों और मोहल्लों में गहरी सीवर पाइप लाइन के लिए जो मेनहोल बनाये जा रहे हैं उसे पाटे जाने के कुछ ही घंटों में सड़क पर गड्ढे हो रहे हैं। ठेकेदारों की लापरवाही के चलते सकरी गलियों और मार्गों पर लोगों को आवागमन में दिक्कतें हो रही हैं।

कुछ समय पहले दिल्ली दरवाजा रोड पर सीवर लाइन डाले जाने के बाद सड़क को ठीक से नहीं बनाया गया। काफी दिनों तक सड़क पर गड्ढा रहा जिससे आवागमन बाधित हुआ। व्यापारियों और स्थानीय लोगों की शिकायत के बाद गड्ढों को पाटा गया। वहीं राठहवेली मोहल्ले में नौगढ़ा मार्ग पर दो दिन पहले सीवर लाइन के बीच में मेनहोल बनाया गया था। लेकिन मेनहोल बनने के बाद वहां सड़क में गड्ढा हो गया। स्थानीय कांग्रेस नेता जियो हैदर ने बताया कि बीती रात वह अपनी कार से घर जा रहे थे। नवगढ़ा तिराहा पर उनकी कार उसी गड्ढे में फंस गई। उनकी ओर से डीएम से शिकायत के बाद सड़क को पाटकर इंटरलॉकिंग करवाई गई। वहीं शहर के अन्य कई हिस्सो में सीवर लाइन के मेनहोन बनने के बाद सड़क पर गड्ढा होने की शिकायतें हैं। कुछ समय पहले रामपथ पर भी कई जगह सड़क धंसने की घटनाएं हो चुकी हैं। लोगों का कहना है कि जब अभी यह हाल है तो बारिश में क्या हाल होगा। जहां भी सीवर लाइन डाली गई है, वहां लगभग सभी जगह बारिश में सड़क धंसने की आशंका बनी हुई है। फिलहाल जल निगम विभाग सड़कों की मरम्मत कराने में अभी तेजी नहीं दिखा रहा है।

दूसरी ओर से रीडगंज चौराहे पर पुलिस चौकी बूथ के सामने काफी समय से सड़क पर चौड़ा गड्ढा है। अक्सर इधर से वाहन से जाने वालों को गड्ढे में वाहन अचानक आने से कमर में तकलीफ होती है। इस बारे में अधिशासी अभियंता जल निगम नागर इकाई आनंद कुमार दुबे का कहना है कि रीडगंज में कुछ समय पहले पानी की पाइप लाइन टूटी थी इसलिए वहां पानी भरने से सड़क धंस गई थी जिससे ठीक करवा दिया गया था। उन्होंने बताया कि अण्डर ग्राउंड पाइप लाइन टूटती है तो उसमें मिट्टी और डीबीएम डालकर पाटा जाता है। मेनहोन के किनारे मेन होल खुदाई के बाद जो चेम्बर और खुदने वाली जगह होती है उसमें बालू और गिट्टी डालकर पाटा जाता है कम गहरान वाले गड्ढे में मिट्टी डाली जाती है। शहर में सड़क धंसने की ऐसी कोई शिकायत नहीं है।

इनसेट

सीवर लाइन से घरों की पाइप जोड़ने में लगेंगे तीन माह

शहरी क्षेत्र में 151 कि.मी. की सीवर पाइप लाइन डालने का कार्य चल रहा है। यह योजना 243 करोड़ की है। अधिशासी अभियंता जल निगम नागर इकाई आनंद कुमार दुबे ने बताया कि 146 कि.मी. सीवर लाइन डाली जा चुकी है। शेष कार्य भी 30 जून तक पूरा करा दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि एसटीपी भी 30 जून तक तैयार हो जाएगी। इसके बाद घरों की सीवर पाइपों को सीवर लाइन से जोड़ने की प्रक्रिया शुरू होगी। इस कार्य में कम से कम तीन माह लग सकते हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।