DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तली में रेंग रहा पानी, सैकड़ों एकड़ में नहीं हुई रोपाई

निचली नहर गंग में पूरा पानी न आने से नहर के किनारे के सैकड़ों एकड़ धान की रोपाई नहीं हो पाई है। नहर में पानी न आने से किसानों के चेहरे पर मायूसी छाई हुई है। खेतों में खड़ी धान की नर्सरी सूख रही है।

अछल्दा विकासखंड क्षेत्र से गुजरी निचली नहर गंग से दर्जनों गांवों के किसान खेती करते हैं। इसी के दम पर किसानों ने धान की नर्सरी भी डाल दी है। लेकिन नहर की तली पर ही पानी रंेग रहा है। जिससे किसान के खेतों में पानी नहीं पहुंच रहा है। किसानों की धान की नर्सरी तैयार है। मगर पानी के अभाव में उसकी रोपाई नहीं कर पा रहे हैं। इन दिनों जब धान की रोपाई को पानी की जरूरत है। तब नहर में पानी ही नहीं दिख रहा है। किसान अपने खून पसीने की कमाई को बर्बाद होते देख परेशान हो रहा है। बारिस के पानी से कुछ किसानों ने धान की रोपाई कर ली लेकिन अभी आधे से ज्यादा किसानों की रोपाई बाकी है। नहर में पूरा पानी ना आने से किसानों के धान की रोपाई लेट होती जा रही है। किसान प्रेम सिंह ने बताया नहर में अगर पानी पूरा नहीं आया। तब बहुत नुकसान होगा। धान की रोपाई लगभग 15 दिन लेट हो गई है। ऐसे में इस समय धान की रोपाई को पानी की जरूरत है। जिन किसानों की सिंचाई का साधन नहर ही है। वहां के किसानों को नहर दगा दे रही है। किसान महावीर, भूरे, झब्बू, अनिल कुमार, प्रेम सिंह, अवधेश कुमार, गोविंद सिंह का कहना है कि जिस समय नहर में पूरा पानी होना चाहिए। उस समय नहर में आधे से भी कम पानी आ रहा है। यदि शीघ्र नहर में पानी नही आया तो किसानों को भारी नुकसान होगा। किसानों ने प्रशासन को ध्यान आकृष्ट कराते हुए जल्द नहर में पानी छोड़वाने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Water crawling in the bottom transplanted in hundreds of acres