DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  औरैया  ›  राष्ट्रीय पक्षियों की मौत पर उन्हें तिरंगे की जगह नसीब हुए बोरे
औरैया

राष्ट्रीय पक्षियों की मौत पर उन्हें तिरंगे की जगह नसीब हुए बोरे

हिन्दुस्तान टीम,औरैयाPublished By: Newswrap
Sun, 13 Jun 2021 11:41 PM
राष्ट्रीय पक्षियों की मौत पर उन्हें तिरंगे की जगह नसीब हुए बोरे

एरवाकटरा। संवाददाता

एरवाकटरा के तकिया गांव में तेरह राष्ट्रीय पक्षियों की प्यास के कारण हुई मौतों के बाद घटनास्थल पर पहुंचे कर्मचारियों ने संवेदनहींनता की सारी हदें पार कर दी। राजकीय सम्मान के हकदार राष्ट्रीय पक्षियों के शवों को आम पक्षियों के शवों की तरह बोरी में भरकर पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया। जिसे देखकर भी जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी मौन बने रहे। कर्मचारियों द्वारा राष्ट्रीय पक्षियों के शवों के साथ की गई बदसलूकी से समाजसेवियों तथा पक्षी प्रेमियों में आक्रोश है।

राष्ट्रीय पक्षियों की मौत पर उनके शवों के साथ किये गए अपमानजनक सुलूक के लिए गैर जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध प्रशासन और शासन क्या कार्रवाई करेगा। जिससे राष्ट्रीय पक्षियों के शवों के साथ किए गए अशोभनीय व्यवहार से पशु प्रेमियों में उपजे आक्रोश को जनाक्रोश में बदलने से रोका जा सके। भविष्य में कोई भी राष्ट्रीय पक्षियों के सम्मान के साथ खिलवाड़ न करे।

ज्ञातव्य हो कि एरवाकटरा के ग्राम तकिया में विगत 7 जून को नौ मोरों की मृत्यु हो गयी और दो दिन बाद 9 जून को पुन: तीन और मोरों की ठीक उसी जगह मृत्यु हो गयी। राष्ट्रीय पक्षियों की इतनी बड़ी संख्या में एक साथ मौत की घटना की सूचना मिलने के बावजूद प्रसाशन का कोई बड़ा अधिकारी घटना स्थल पर नहीं पहुंचा। सिर्फ वनविभाग के कर्मचारियों ने राष्ट्रीय पक्षियों के शवों को बोरियों में भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजकर अपने कर्तव्यों से इतिश्री कर ली। कैंसर सर्जन डॉ नवल किशोर शाक्य, शेखूपुर के बीडीसी राहुल सविता, गौ मानव सेवा मिशन ट्रस्ट के अध्यक्ष क्षेत्रपाल सिंह तोमर, समाजवादी पार्टी के ब्लॉक अध्यक्ष सुनील यादव एवं सुरेंद्र यादव, अमित वर्मा, गल्ला आढ़ती गौरव रंजन गुप्ता, जिला पंचायत सदस्य श्रीप्रकाश चंद्र यादव आदि लोगों ने प्रशासन के कर्मचारियों द्वारा राष्ट्रीय पक्षियों के साथ इस गैर जिम्मेदाराना रवैये के लिए कार्रवाई की मांग की है।

संबंधित खबरें