अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रीय लोक अदालत में 1093 मामले हुए तय

राष्ट्रीय लोक अदालत में 1093 मामले हुए तय

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में आयोजित की गई राष्ट्रीय लोक अदालत में 1093 मामले सुलह समझौते के आधार पर हल कराए गए। साथ ही 86420 रुपए अर्थदंड भी वसूल किया गया। मोटर दुर्घटना क्लेम व बिजली विभाग के कई मामले लोक अदालत में निपटाए गए।

शनिवार को जिला जजी में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन जिला जज राजीव गोयल की अध्यक्षता में किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव सिविल जज विजय कुमार विश्वकर्मा ने बताया कि जिला जज राजीव गोयल ने चार मोटर दुर्घटना क्लेम सहित 13 मुकदमे तय किए और 17 लाख 14 हजार प्रतिकर एवार्ड किया। एडीजे लल्लू सिंह ने विद्यात अधिनियम के 13, एमएसी के चार व 70 एफआर के मामले तय किए। नोडल अधिकारी परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश राज बहादुर मौर्या ने 10 मामले तय किए और चार जोड़ों को विदा किया। जिला जज व अन्य न्यायिक अधिकारियों की मौजूदगी में साथ रहने को राजी हुए जोड़ों ने एक दूसरे को माला पहनाकर मुकदमेबाजी से तौबा की। अपर जिला जज प्रथम कान्त ने 10 मोटर दुर्घटना क्लेम के मामले तय किए और 84 लाख 65 हजार रूपए प्रतिकर एवार्ड किया। सीजेएम रामनेत ने 60 वाद तय कर 67 हजार 250 रूपए अर्थदंड वसूला। एडीजे राम अवतार यादव ने एक, सिविल जज सीनियर डिवीजन अर्चना तिवारी ने सात, सिविल जज सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रेक डॉ. सुरेश कुमार ने 15, सिविल जज जूनियर डिवीजन प्रतिभा सिंह ने पांच मामले तय किए। बिजली विभाग के अधिवक्ता भूकेश मिश्रा के अनुसार बिजली विभाग के 68 एफआर सहित कुल 81 वाद तय किए गए हैं। डीबीए प्रवक्ता शिवम शर्मा ने बताया कि इस लोक अदालत में सभी बैंकों, दूर संचार विभाग ने विशेष शिविर लगाकर मामले तय किए। इस मौके पर डीबीए अध्यक्ष अशोक अवस्थी, महामंत्री मान सिंह पाल, जितेंद्र सिंह तोमर, रमेश चंद्र मिश्रा, महावीर शर्मा, अनिरूद्ध त्रिपाठी, नम्रता शर्मा,नीरज तिवारी,राजदीप आदि ने भाग लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:National Lok Adalat has 1093 cases fixed