DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धान उत्पादन का बड़ा इलाका जलमग्न

धान उत्पादन का बड़ा इलाका जलमग्न

दिबियापुर क्षेत्र में धान उत्पादन का बड़ा इलाका पिछले दिनों हुई मूसलाधार बारिश के चलते जलमग्न हो गया है।

खेतों में 2 फुट तक पानी भरा हुआ है इस कारण धान की रोपाई विलंबित हो रही है। किसान धान की फसल को पिछड़ता देख रहे हैं। खेतों से पानी निकलने का कोई रास्ता उन्हें सूझ नहीं रहा है। जहां धान की रोपाई हो गई वह खेत में डूब गए हैं, और रोपाई बर्बाद हो गई है।

दिबियापुर से सटे दखनाई, हरतौली, परवाहा पाता क्षेत्र में पिछले दिनों हुई बारिश में हर जगह पानी ही पानी कर दिया है। खेतों में 2 से 3 फीट तक पानी भरा हुआ है। किसानों ने जहां पानी का इंतजाम कर नर्सरी की रोपाई कर दी थी वहां खेतों में पानी भर जाने से उन की रोपाई बर्बाद हो गई है। रोपे गए पौधे पानी में पूरी तरह डूब गए हैं। कई जगहों पर जाने के लिए तैयार की गई नर्सरी भी पानी के डूब क्षेत्र में आ गई है। खेतों में जरूरत से ज्यादा पानी भरा होने से धान की रोपाई का काम भी बाधित है। ऐसे में धान उत्पादक किसान धान की फसल को पिछड़ता देख रहे हैं, इससे उनकी चिंता भी बढ़ गई है। दखनाई गांव के किसान सतीश चंद्र फौजी, अमर सिंह, कोमल सिंह, राजेश कुमार, अजय पाल सिंह, पूर्व प्रधान रामनाथ आजाद, गंगाराम राजपूत ने बताया कि पूर्व में रोपी गई नर्सरी पानी में डूब गई है। उन्हें अब दोबारा से फसल के लिए रोपाई करनी पड़ेगी।

धान की फसल पिछड़ने का खतरा अलग से बढ़ गया है। किसानों ने बताया कि सैकड़ों एकड़ में रोपी गई धान की फसल जलमग्न है। इन खेतों से हफ्तो तक पानी नहीं निकल सकेगा, ऐसे में दोबारा रोपाई भी जल्द संभव नहीं है। ग्रामीणों ने बताया कि खेतों के साथ-साथ घरों में भी पानी भर गया है। इससे घर गृहस्थी का सामान भी तबाह हो गया है। पंप चलाकर दिन दिन भर घरों से पानी निकालने की कवायद की जा रही है। इस संबंध में ग्रामीणों ने जिला प्रशासन को सारी जानकारी देते हुए अवगत कराया था पर प्रशासन का कोई नुमाइंदा परेशान ग्रामीणों की खबर लेने नहीं पहुंचा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Large area of paddy production submerged