DA Image
26 फरवरी, 2020|12:01|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

30 सितंबर तक सभी लाभार्थियों के बनेंगे गोल्डन कार्ड

default image

आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के गोल्डन कार्ड अब ग्राम व वार्ड स्तर पर शिविर लगाकर बनाए जाएंगे। चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के प्रमुख सचिव देवेश चतुर्वेदी ने तीन सितंबर से अभियान शुरू करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री 30 सितंबर को योजना की समीक्षा करेंगे। इससे पहले सभी लक्षित लाभार्थियों के गोल्डन कार्ड बनाने के हर संभव प्रयास किए जाएं।

प्रमुख सचिव ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों एवं मुख्य चिकित्साधिकारियों को भेजे पत्र में कहा है कि 16 अगस्त को समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव ने लक्षित परिवारों के सापेक्ष बेहद कम गोल्डन कार्ड बनाए जाने पर नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि पात्र होते हुए भी लाभार्थी को बिना गोल्डन कार्ड योजना का लाभ नहीं मिल सकता। निर्देश दिया था कि योजना में पात्र परिवारों के सभी सदस्यों का सत्यापन कर गोल्डन कार्ड बनवाएं। प्रमुख सचिव ने पत्र में कहा है कि ग्राम सभा व वार्ड स्तर पर सार्वजनिक स्थानों पर लाभार्थियों की सूची चस्पा की जाएगी। तारीख व कैंप का स्थान निर्धारित करते हुए माइक्रोप्लान तैयार कर योजना की स्टेट हेल्थ एजेंसी को भेजी जाएगी। शिविर में कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) द्वारा कियोस्क स्थापित किया जाएगा। जहां 30 रुपए लेकर लाभार्थी का गोल्डन कार्ड बनाया जाएगा। प्रमुख सचिव ने कहा कि इन स्थलों के अतिरिक्त सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी कैंप लगाए जाएंगे। जहां लाभार्थियों के निशुल्क कार्ड बनेंगे। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. शिशिर पूरी ने कहा है कि प्रमुख सचिव द्वारा मिले निर्देशों के अनुसार प्लान तैयार किया जा रहा है। जिला व ब्लाक स्तर अधिकारियों को शीघ्र ही इसकी रूपरेखा देने को कहा गया है। तीन सितंबर से शिविरों में युद्ध स्तर पर कार्ड बनाए जाएंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Golden card will be made of all beneficiaries by 30 September