DA Image
1 अप्रैल, 2020|7:43|IST

अगली स्टोरी

गांव-गांव व वार्ड स्तर पर शिविर लगा बनेंगे गोल्डन कार्ड

गांव-गांव व वार्ड स्तर पर शिविर लगा बनेंगे गोल्डन कार्ड

आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के गोल्डन कार्ड अब तीन से 30 सितम्बर तक शिविर लगाकर बनाए जाएंगे। शिविर का आयोजन जन सेवा केंद्रों के माध्यम से किया जाएगा। इसका उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनाना और लाभ पहुंचाना है।

इसी क्रम में मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में शनिवार को आयुष्मान गोल्डन कार्ड की कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला की अध्यक्षता मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अवधेश राय ने की। शिविर की तारीख व स्थान निर्धारित करते हुए माइक्रोप्लान भी तैयार किया गया। सीएमओ ने कहा सभी लक्षित लाभार्थियों के गोल्डन कार्ड बनाने के हर संभव प्रयास किए जाएं। प्रत्येक न्याय पंचायतों/समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर जन सेवा केंद्रों के माध्यम से कैंप का आयोजन किया जाना है। जिसमे 30 रुपये प्रति लाभार्थी का शुल्क निर्धारित किया गया है । इसके अलावा आयुष्मान योजना के तहत सूचीबद्ध अस्पतालों में नि:शुल्क गोल्डन कार्ड बनाये जाएंगे। पात्र परिवारों के सभी सदस्य सत्यापन कर गोल्डन कार्ड बनवा सकते हैं।

नोडल अधिकारी डॉ शिशिर पुरी ने अधिक से अधिक लोगों को इससे लाभान्वित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए आशा, एएनएम व आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से लोगों को जागरूक करें।जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ ज्योतीन्द्र मिश्रा ने सभी कॉमन सर्विस केंद्रों के वीएलई को उक्त कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए ट्रेनिंग दी। साथ ही गोल्डन कार्ड बनाने की प्रक्रिया के बारे में जन सेवा केंद्र संचालकों को भी ट्रेनिंग दी और गोल्डन कार्ड बनाते समय क्या-क्या सावधानियां बरतनी हैं। इसके बारे में बताया। प्रत्येक लाभार्थियों की सूची समस्त चिकित्सालय एवं जन सेवा केंद्रों को उपलब्ध करायी गयी। उन्होंने बताया प्रतिदिन पूरे माह लगभग 300 शिविर लगा कर लाभार्थियों के कार्ड बनाए जाएंगे। कार्यशाला में समस्त उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, सभी ब्लॉक के बीपीएम, बीसीपीएम व चिकित्सा अधीक्षक, जन सेवा केंद्र संचालक मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Camps will be organized at village-village and ward level