DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिना अनुमति नहीं बच सकेंगे 25 क्विंटल से अधिक गेहूं

बिना अनुमति नहीं बच सकेंगे 25 क्विंटल से अधिक गेहूं

गेहूं खरीद का लक्ष्य पूर्ण हो चुका है। ऐसे में गेहूं खरीद में दलाल गर्दी रोकने के लिए प्रशासन सख्त हो गया है। गेहूं खरीद के मानक सख्त कर दिए गए हैं। किसानों को 25 क्विंटल से अधिक गेहूं क्रय केंद्रों पर बेचने से पहले एडीएम से अनुमति लेनी होगी। बगैर अनुमति के गेहूं नहीं बच सकेंगे। क्रय केंद्रों पर भी गेहूं खरीद पर कड़ी नजर रखी जाएगी। डिमांड के अनुसार बोरे नहीं दिए जाएंगे। खाली बोरे तभी मिल सकेंगे जब क्रय केंद्र संचालक गेहूं खरीद को टोकन रजिस्टर की छाया प्रति प्रस्तुत करेंगे। इतने लोगों ने गेहूं बेचने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराया हैं। उन्हें टॉकन दिया जा चुका है। बता दें कि बाजार में गेहूं का रेट 1600 रुपये प्रति क्विंटल से ऊपर नहीं पहुंचा है। जबकि सरकारी क्रय केंद्रों पर किसानों का गेहूं 1745 रुपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदा जा रहा है। बाजार रेट से अधिक दाम पर गेहूं खरीद हो रही है। इसी के चलते जिले में समय से पूर्व खरीद का लक्ष्य पूर्ण हो गया है। जिले में गेहूं रखने की जगह नहीं बची है। गोदाम फुल हो चुके हैं। जबकि पंद्रह दिन अभी और गेहूं खरीद चलेगी। गेहूं खरीद में दलाल गर्दी रोकने के लिए परमिशन का पहरा बैठा दिया गया है। पच्चीस क्विंटल से अधिक गेहूं बेचने के लिए किसानों को एसडीएम से अनुमति लेनी होगी। बगैर अनुमति के केंद्रों पर गेहंू नहीं बच सकेंगे। 25 क्विंटल से कम गेहूं बेचने के लिए कोई अनुमति नहीं लेनी होगी।खाली बोरे के लिए भी देनी होगी टॉकिन आख्याक्रय केंद्रों को अब आसानी से खाली बोरे नहीं मिल सकेंगे। इस पर भी बंदिश का पहरा बैठा दिया गया है। खाली बोरे की डिमांड करने से पहले टोकन रजिस्टर दिखाना होगा। कितने किसानों ने गेहूं बेचने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराया। और कितने किसानों को टोकन दिया गया। रजिस्टर की छाया प्रति प्रस्तुत करने के बाद ही खाली बोरे मिल सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Without permissions can not sale more than 25 quintals wheat