DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  अमरोहा  ›  बूढ़ी दादी पर आया तीनों बच्चों के पालन पोषण का जिम्मा, जानिए क्यों
अमरोहा

बूढ़ी दादी पर आया तीनों बच्चों के पालन पोषण का जिम्मा, जानिए क्यों

हिन्दुस्तान टीम,अमरोहाPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 11:00 AM
बूढ़ी दादी पर आया तीनों बच्चों के पालन पोषण का जिम्मा, जानिए क्यों

गजरौला। संवाददाता

कोरोना का कहर कई परिवारों के सदस्यों को जिंदगी भर नहीं भरने वाला जख्म दे गया है। क्षेत्र के सलेमपुर गोंसाई में रहने वाले एक परिवार के सदस्य भी इस जख्म को जीवन भर याद रखेंगे। कोरोना ने तीन बच्चों से उनकी मां का आंचल छीन लिया। पत्नी के गम में उसके पति की भी मौत हो गई। जिससे बच्चों के सिर से उनके पिता का साया भी उठ गया। उनके पालन पोषण की जिम्मेदारी अब उनकी बूढ़ी दादी के कंधों पर आ गई है।

गजरौला के निकटवर्ती गांव सलेमपुर गोंसाई निवासी अवनीश कुमार की पत्नी विजयलक्ष्मी की कोरोना से 12 मई को मौत हो गई थी। पति अवनीश कुमार को पत्नी की मौत का सदमा लगा तो 21 मई को उसकी भी ब्रेन हेमरेज से मौत हो गई। विजय लक्ष्मी व अवनीश की मौत के बाद उसके बच्चों पर दुखों का पहाड़ टूट गया। अवनीश का बेटी अनिकेता सिंह उर्फ तन्वी, इशिका वर्धन उर्फ विशु व बेटा सूर्यान्श वर्धन के सिर से पिता का साया उठ गया और मां का आंचल छिन गया है। तीन बच्चे अनाथ हो गए हैं। जिसके चलते उनके पालन-पोषण की समस्या भी खड़ी हो गई है। मां-बाप तीनों बच्चों की जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे थे। तीनों बच्चे स्कूल में पढ़ने भी जाते थे लेकिन अब उनके पालन-पोषण की जिम्मेदारी बूढ़ी दादी भरतो देवी के कंधों पर आ गई है। घर में आय का कोई साधन नहीं है। बुढ़ापे में भरतो देवी मजदूरी नहीं कर सकती। ऐसे में उन्हें तीनों बच्चों के पालन-पोषण की चिंता सता रही है।

संबंधित खबरें