DA Image
4 दिसंबर, 2020|7:45|IST

अगली स्टोरी

शादी आयोजनों पर बंदिश का पहरा, कारोबार में नुकसान की चिंता

शादी आयोजनों पर बंदिश का पहरा, कारोबार में नुकसान की चिंता

1 / 3बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए शादी-विवाह में शामिल होने वाली भीड़ पर एक बार फिर से पाबंदी लगा दी गई है। सिर्फ 100 लोग ही शादी में शामिल हो...

शादी आयोजनों पर बंदिश का पहरा, कारोबार में नुकसान की चिंता

2 / 3बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए शादी-विवाह में शामिल होने वाली भीड़ पर एक बार फिर से पाबंदी लगा दी गई है। सिर्फ 100 लोग ही शादी में शामिल हो...

शादी आयोजनों पर बंदिश का पहरा, कारोबार में नुकसान की चिंता

3 / 3बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए शादी-विवाह में शामिल होने वाली भीड़ पर एक बार फिर से पाबंदी लगा दी गई है। सिर्फ 100 लोग ही शादी में शामिल हो...

PreviousNext

अमरोहा/गजरौला। हिटी

बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए शादी-विवाह में शामिल होने वाली भीड़ पर एक बार फिर से पाबंदी लगा दी गई है। सिर्फ 100 लोग ही शादी में शामिल हो सकेंगे। ऐसे में बैंक्वेकट हॉल, टेंट-शामियाना, बैंड-बाजे, सजावट, खानपान, पत्तल-दोने, फूल-माला से जुड़े व्यापारियों को कारोबार के प्रभावित होने का डर बना है।

शादियों का पिछला सीजन पूरी तरह ठप गया था। इस बार भी कुछ ऐसे ही हालात बनते दिख रहे हैं। लॉकडाउन के बाद कारोबार जहां धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा था तो वहीं धनतेरस, दीपावली पर भी बिक्री बेहतर रही। लेकिन अब शादी समारोह में भीड़ के शामिल होने पर लगाई गई पाबंदी के बाद कारोबार एक बार फिर से प्रभावित होने का अंदेशा बना है। सबसे ज्यादा नुकसान टेंट-शामियाना, बैंड-बाजा, सजावट, खानपान, पत्तल-दोने, फूल-माला से जुड़े व्यापारियों को होगा। कारोबारियों का कहना है कि पिछली बार भी शादियों का सीजन ऐसे ही गुजर गया। इस बार फिर से पाबंदी लगा दी गई है, जिसके कारण खासा नुकसान होगा।

पिछली बार लाकडाउन में शादियों का सीजन ऐसे ही गुजर गया। फिर से शादियों में भीड़ जमा होने पर पाबंदी लगा दी गई है। ऐसे में कारोबार ठप होने की चिंता है। शादियों का सीजन शुरू होने पर कुछ बुकिंग हुई थी। अब बुकिंग के रुपये भी वापस लौटाने पड़ेंगे। 100 लोगों के कार्यक्रम के लिए बैंक्वेट हॉल बुक ही नहीं होंगे।

परम सिंह, वैंकट हाल संचालक

शादियों का सीजन शुरू हुआ है। सोचा था कि पिछली बार हुए नुकसान की इस बार भरपाई हो जाएगी लेकिन पाबंदी के बाद अब सब कुछ खत्म होता दिख रहा है। ऐसे में काम करना काफी मुश्किल होगा। ऐसे ही चलता रहा तो हलवाई का काम छोड़कर कोई दूसरा काम शुरू करना पड़ेगा।

किशनलाल, हलवाई

शादी विवाह के अलावा अन्य कार्यक्रमों में भी टेंट की जरूरत पड़ती है। अभी तक तो सभी कार्यक्रमों पर पाबंदी थी, जिससे कारोबार पूरी तरह ठप था। अब कुछ छूट मिली तो लगा कि कारोबार पटरी पर लौटेगा लेकिन फिर से शादियों में भीड़ जमा होने पर पाबंदी लगा दी गई है। ऐसे में कारोबार पर असर पड़ेगा।

रामचंद्र कश्यप, टेंट हाउस स्वामी

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Restriction on wedding events loss of business concerns