DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तालाबों के अस्तित्व पर दबंगों की नजर तालाबों के अस्तित्व पर भूमाफियाओं की गिद्द दृष्टि

तालाबों के अस्तित्व पर दबंगों की नजर
   
 तालाबों के अस्तित्व पर भूमाफियाओं की गिद्द दृष्टि

तालाबों के अस्तित्व पर दबंगों की नजर है। रात के अंधेरे में पनवाड़ी तालाब पर दबंगों ने भराव कराना शुरू कर दिया। ताकि अवैध कब्जा करने में किसी प्रकार की दिक्कत न हो। प्रशासन भी इसे ओर से आंखे बंद किए बैठा है। अमरोहा में न जाने कितने तालाबों पर आज आबादी बसी है और रोना रोया जाता है जलभराव की समस्या। पहले शहर के चारों तरफ बड़े बड़े तालाब बने हुए थे। जिनमें बरसात का पानी पहुंचता था, लेकिन आज स्थिति अलग है।

बिजनौर रोड पर बहुत पुराना पनवाड़ी तालाब है। इसमें शहर के अधिकांश हिस्से का पानी आता है। जिससे बरसात का पानी भी बेकार नहीं जाता है और जलभराव की समस्या से भी राहत मिलती थी, लेकिन धीरे धीरे तालाब पर कब्जा हो गया और तालाब बस नाम का ही रह गया। आज तालाब के अधिकांश हिस्से पर दबंगों ने कब्जा कर रखा है। इसमें प्रशासन की भी मिली भगत बताई जा रही है। काफी बड़े क्षेत्र में तालाब फैला है। पहले इस तालबा में गरमी के दिनों में पशु आंनद लेते थे और पानी की समस्या का भी हल होता था। गुरुवार की रात दबंगों ने तालाब पर अवैध कब्जा करने की कोशिश के चलते भराव करना शुरू कर दिया। इस मामले की जानकारी राजस्व विभाग के अधिकारियों को भी दी गई,लेकिन आरोप है कि यह सब मिलीभगत के चलते हो रहा है।

अधिकांश हिस्से पर कब्जा

पनवाड़ी तालाब के अधिकांश हिस्से पर कब्जा है। कई ने तो मकान भी बनाकर खड़े कर लिए है। पहले भी कई बार तालाब से कब्जा हटवाने की बात कही गइ, लेकिन आज तक समस्या का हल नहीं हो सका। पहले भी तालाब पर कब्जे को लेकर आवाज उठती रहीं है, लेकिन आज तक समस्या का हल नहीं हो सका। धीरे धीरे तालाब सिकुड़ता जा रहा है।

कराई जाएगी जांच

तालाब पर भराव की जानकारी मिली। जिस पर लेखपाल को भेजकर भराव को रुकवा दिया गया है। अब पूरे मामले की जांच कराई जाएगी। इंद्रनंदन सिंह, एसडीएम सदर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Landholder eyes of the existence of ponds