DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमरोहा में चुनौती बनी 55 संदिग्धों की पड़ताल

रजबपुर थाना क्षेत्र के शकरपुर समसपुर में झोपड़ी बना कर रह रहे 55 संदिग्ध लोगों की पहचान करना खुफिया एजेंसियों के लिए चुनौती बन गया है। गांव के बाहरी हिस्से में डेरा जमाए इन लोगों में सिर्फ 13 लोगों के पास ही पहचान पत्र हैं। इसमें भी जानकारी आधी-अधूरी है। इस जानकारी के आधार पर सभी की पहचान करने में जांच एजेंसियों को पसीने छूट रहे हैं।

रजबपुर थाना क्षेत्र के गांव शकरपुर समसपुर में खाली पड़े प्लाट में पांच परिवार झोंपड़ी बना कर रह रहे हैं। इनमें बच्चों समेत 55 सदस्य हैं। संदिग्धों की पड़ताल में गुरुवार को खुफिया विभाग ने मौके पर जाकर जानकारी की थी। उनके पहचान पत्र, मूल निवास समेत अन्य कागजात देखे थे। साथ ही उनसे पूछताछ भी की थी। इनमें से सिर्फ 13 लोग ही अपने पहचान पत्र खुफिया विभाग की टीम को दिखा सके। बाकी 42 लोगों का न तो पहचान पत्र मिला और न ही कोई अन्य कागजात।

खुफिया विभाग की टीम को जो 11 लोगों के पहचान पत्र मिले हैं, उनमें सभी का पता मुरादाबाद का बुढ़ानपुर गांव लिखा है, मगर यह दर्ज नहीं है कि उनकी तहसील कौन सी है। मुरादाबाद जिले का कौन सा थाना लगता है। ग्राम पंचायत क्या है। खुफिया एजेंसियों को इन सबकी सही दस्दीक करने में पसीने छूट रहे हैं।

नहीं मिला एक भी पुरुष सदस्य

संदिग्धों की तलाश में शकरपुर समसपुर पहुंची खुफिया विभाग की टीम ने झोपड़ी बना कर रह रहे लोगों के बारे में जानकारी की। पहचान पत्र देखे। 55 सदस्यों में टीम को कोई भी पुरुष सदस्य नहीं मिला। खुफिया विभाग का कहना है कि गांव से सत्यापन के साथ ही संबंधित थाना पुलिस से भी इनके रिकार्ड की जानकारी की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:investigation of 55 doubtful people is defficult for intelligence agency