ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश अमरोहातेज धूप और गर्म हवा से बढ़ रहा आंखों में संक्रमण

तेज धूप और गर्म हवा से बढ़ रहा आंखों में संक्रमण

गजरौला, संवाददाता। चिलचिलाती धूप और लू से नेत्र रोगों से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। सीएचसी पर रोजाना 20 से 25 मरीज आंखों में संक्रमण की...

तेज धूप और गर्म हवा से बढ़ रहा आंखों में संक्रमण
हिन्दुस्तान टीम,अमरोहाSat, 25 May 2024 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

गजरौला, संवाददाता। चिलचिलाती धूप और लू से नेत्र रोगों से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। सीएचसी पर रोजाना 20 से 25 मरीज आंखों में संक्रमण की शिकायत लेकर पहुंच रहे हैं। ज्यादातर मामलों में मरीजों को आंखों में जलन, पानी आने व खुजली की शिकायत बनी है।
भीषण गर्मी के बीच उड़ रही धूल आंखों को नुकसान पहुंचा रही है। रोजाना बड़ी संख्या में ऐसे में मरीज निजी संग सरकारी अस्पताल में उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को भी सीएचसी में लगभग 25 मरीज नेत्र चिकित्सक को दिखाने पहुंचे। सीएचसी पर तैनात नेत्र चिकित्सक डा.अनिल कुमार के मुताबिक मौजूदा वक्त सड़क पर उड़ती धूल से आंखों को बचाकर रखना चाहिए। गर्मी में आंखों में धूल आदि जाने से खुजली या जलन होने लगती है। आंखों का संक्रमण होने पर साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। बताया कि आंखों पर वायरस के संक्रमण को आई फ्लू कहते हैं, जो गंदगी, गंदे पानी, गंदी उगलियों, मक्खियों, धूल व धुएं के जरिए तेजी से फैलता है। आई फ्लू होने पर आंखों से पानी जैसा द्रव्य निकलता है और दर्द संग जलन होती है। पलकों पर सूजन आ जाती है। यह भी आई फ्लू का ही रूप है। पीड़ित को तेज धूप और रोशनी चुभती है। इससे आंखों को पूरी तरह से नहीं खोला जा सकता है। आंखों में दर्द और थकान भी रहती है। सलाह दी कि नेत्र संबंधी किसी भी दिक्कत पर तुरंत चिकित्सक के परामर्श से जरूरी सावधानियां बरतते हुए उपचार कराएं।

ऐसे करें बचाव

गजरौला। नेत्र चिकित्सक डा.अनिल कुमार के मुताबिक आंखों में संक्रमण होने पर दिन में कई बार ठंडे पानी के छींटे मारें। आंखों को राहत देने के लिए खीरे के टुकड़े भी लगा सकते हैं। आंखों को स्वस्थ रखने के लिए पूरी नींद व अच्छा भोजन जरूर करें। खाने में हरी सब्जियां, अंकुरित अनाज आदि का ही प्रयोग करें। पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं ताकि शरीर की गंदगी बाहर निकल सके और नमी बनी रहे। नेत्र रोग विशेषज्ञ की सलाह पर आंखों में ऐसी दवाएं डालें, जो आखों को ड्राई होने से रोके और संक्रमण न पैदा होने दें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।