DA Image
5 अप्रैल, 2020|2:18|IST

अगली स्टोरी

रामगंगा पोषक नहर में मिले शव की शिनाख्त

रामगंगा पोषक नहर में मिले शव की शिनाख्त

धनौरा थाना क्षेत्र में रामगंगा पोषक नहर में तैरते मिले शव की बिजनौर जिले के चांदपुर थाना क्षेत्र के अथाई गांव निवासी के रूप में की गई है। मृतक एक फरवरी को गांव में ही राशन डीलर को आधार कार्ड देने गया था। इसके बाद नहीं लौटा। मोर्चरी पर पहुंचे परिजनों ने शव देख पहचान की। मंगलवार को मोर्चरी पर परिजनों और रिश्तेदारों के साथ पहुंचे अथाई गांव निवासी कमल सिंह के मुताबिक उसके 60 वर्षीय पिता शीशराम पुत्र खान चंद्र एक फरवरी को घर से निकले थे। वह यह कह कर गए थे कि राशन डीलर को आधार कार्ड देने जा रहे हैं। राशन डीलर परिवार का ही है। उसको आधार कार्ड देने के बाद पता नहीं चला कि कहां गए। शाम तक आने पर गांव में लोगों से जानकारी की। अगले दिन से रिश्तेदारियों और जान पहचान की जगह तलाश शुरू कर दी। हर जगह ढूंढ़ते रहे। उधर अखबारों में खबर प्रकाशित हुई कि रविवार को धनौरा थाना क्षेत्र में बेरखेड़ा पुल के पास रामगंगा पोषक नहर में अज्ञात व्यक्ति का शव मिला है। मोर्चरी पर पिता के शव को पहचान वह विलख पड़ा। पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन शव को घर ले गए। धनौरा थाना प्रभारी निरीक्षक आरपी शर्मा का कहना है कि रामगंगा पोषक नहर में मिले शव की शिनाख्त हो गई है। पोस्टमार्टम के बाद परिजन शव घर ले गए।

रंजिश, तकरार से इंकार नहर फिर में कैसे पहुंचा शव

धनौरा थाना क्षेत्र में रामगंगा पोषक नहर में मिले शव की पहचान अथाई गांव निवासी 60 वर्षीय शीशराम के रूप में की गई। मोर्चरी पर पहुंचे परिजनों के मुताबिक वह एक फरवरी को घर से निकले थे। बेटे कमल सिंह ने किसी रंजिश से भी इंकार किया। घर में तनाव या विवाद जैसी कोई बात भी नहीं थी। जिससे खुदकुशी की आशंका को विराम लग गया। मगर यहां सवाल उठ रहा है किसी से रंजिश नहीं थी। घर में विवाद भी नहीं था तो वृद्ध का शव रामगंगा पोषक नहर में कैसे पहुंचा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Identification of dead bodies found in Ramganga Nutra Canal