DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमरोहा में गोकशी के खिलाफ भड़के हिंदू संगठनों ने लगाया जाम

अमरोहा में गोकशी के खिलाफ भड़के हिंदू संगठनों ने लगाया जाम

प्रदेश की सत्ता संभालते ही सीएम योगी ने गोकशी रोकने के सख्त निर्देश दिए थे। अफसरों को हिदायत दी थी कि गोवंशीय पशुओं का कटान करने पर खैर नहीं होगी। चेताया था कि जिस जिले में गोकशी का मामला सामने आया, उस जिले के एसपी को नहीं बख्शा जाएगा। सीएम के आदेशों को कुछ दिन तक गंभीरता से लिया, मगर पुलिस फिर पुराने ढर्रे पर पहुंच गई है। मुख्यमंत्री के निर्देशों को ताक पर रख दिया है। जिले में रोजाना गोकशी के मामले सामने आ रहे हैं। जिससे यह लग रहा है कि मांस कारोबारी और गो तस्करों को पुलिस का खौफ नहीं रहा है।

जनपद में बढ़ रही गोकशी को लेकर हिंदू संगठनों में पनप रहे रोष में बुधवार की सुबह हसनपुर में की गई दो गोवंशीय पशुओं की हत्या ने आग में घी का काम किया। जिससे आकोशित लोगों को भीषण गर्मी में जाम लगाना पड़ा। जाम में फंसे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। गोकशी को लेकर जनपदवासियों में पनप रहा रोष और बड़ा रूप ले सकता है।

जनपद में बवाल करा चुकी हैं गोकशी की घटनाएं

गोकशी को लेकर जिला हमेशा संवदेनशील रहा है। जनपद में गोकशी की घटनाएं कई बार बवाल करा चुकी हैं। बावजूद इसके पुलिस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है। पिछली सरकार में मटीपुरा के जंगल में तस्करों ने चार सांडों का कटान कर दिया था। जिससे गुस्साए आस पास के गांवों के लोगों ने रहरा-गवां मार्ग पर जाम लगाया था। पुलिस के साथ हाथापाई और मारपीट की नौबत आ गई थी।

पुलिस के साथ हुई थी जमकर मार

पीटमांस कारोबारियों ने आदमपुर थाना क्षेत्र में छपना और लालापुर के जंगल में नीलगाय का वध कर दिया था। आधा दर्जन गांवों के लोगों ने मरी नीलगाय को लाकर छपना में जाम लगाया था। पुलिस और भीड़ के बीच जमकर पथराव हुआ था। जिसका दंश रहरा चौकी के गांव हिरनौटा के युवक आज भी झेल रहे हैं। दर्जनों युवकों के खिलाफ पुलिस के साथ मारपीट का मामला दर्ज हुआ था। अभी भी मुकदमा चल रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hindu organizations protested against cow slautaring in Amroha