DA Image
25 नवंबर, 2020|12:52|IST

अगली स्टोरी

गेहूं उत्पादन में आई भारी गिरावट, किसान परेशान

गेहूं उत्पादन में आई भारी गिरावट, किसान परेशान

गेहूं की फसल पर मौसम की मार पड़ी है। असर गेहूं उत्पादन पर पड़ा है। खेतों में औसत से कम गेहूं निकल रहा है। हालत यह है कि किसानों को लागत भी वापस नहीं मिल रही है। बीते साल की तुलना में जिले में करीब 50 हजार कुंतल कम गेहूं उत्पादन होने का अनुमान है।

जिले में 88 हजार हेक्टेयर भूमि पर गेहूं की फसल उगाई गई है। क्षेत्र में फसल की कटाई और थ्रेसिंग चल रही है। लेकिन इस बार औसत से कम गेहूं निकल रहा है। प्रति बीघा में दो कुंतल से अधिक गेहूं नहीं निकला रहा है। जबकि बीते साल दो कुंतल से अधिक गेहूं प्रति बीघा में निकलने का औसत रहा था। बीते वर्ष जिले में तीन लाख कुंतल से अधिक गेहूं का उत्पादन हुआ था। इस बार 2.50 लाख कुंतल गेहूं उत्पादन का अनुमान है। गत वर्ष की तुलना में 50 हजार कुंतल कम गेहूं उत्पादन इस बार होगा। किसानों को लागत भी वापस नहीं मिलेगी। कम उत्पादन के चलते किसानों को नुकसान उठाना पड़ेगा। इसके अलावा सरसों की खेती भी इस बार घाटे का सौदा साबित हुई है। सरसों का औसत उत्पादन प्रति बीघा में एक कुंतल से कम रहा है। किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। जिला कृषि अधिकारी राजीव कुमार सिंह ने बताया कि इस बार जिले में गेहूं की पैदावार कम है। कम उत्पादन की वजह खराब मौसम रहा है।--------------------

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Heavy fall in wheat production farmers upset