DA Image
24 सितम्बर, 2020|11:52|IST

अगली स्टोरी

गंगा का जलस्तर स्थिर, ग्रामीणों को जलभराव से मिली राहत

गंगा का जलस्तर स्थिर, ग्रामीणों को जलभराव से मिली राहत

1 / 2पिछले चार दिन से घट रहा तिगरी गंगा का जलस्तर बुधवार को स्थिर हो गया है। गंगा का जलस्तर का रिकार्ड 199.90 दर्ज किया गया। जबकि पिछले दिनों जलस्तर 200.20 सेंटीमीटर तक पहुंच गया था। जलस्तर घटने के बाद...

गंगा का जलस्तर स्थिर, ग्रामीणों को जलभराव से मिली राहत

2 / 2पिछले चार दिन से घट रहा तिगरी गंगा का जलस्तर बुधवार को स्थिर हो गया है। गंगा का जलस्तर का रिकार्ड 199.90 दर्ज किया गया। जबकि पिछले दिनों जलस्तर 200.20 सेंटीमीटर तक पहुंच गया था। जलस्तर घटने के बाद...

PreviousNext

पिछले चार दिन से घट रहा तिगरी गंगा का जलस्तर बुधवार को स्थिर हो गया है। गंगा का जलस्तर का रिकार्ड 199.90 दर्ज किया गया। जबकि पिछले दिनों जलस्तर 200.20 सेंटीमीटर तक पहुंच गया था। जलस्तर घटने के बाद खादर क्षेत्र के ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। लेकिन खेतों में अभी तक भी पानी भरा हुआ है। जिसकी वजह से किसानों को चारा काटने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बिजनौर बैराज से 90 हजार क्यूसेक पान छोड़ा गया है लेकिन इससे ज्यादा पानी तिगरी गंगा से डिस्चार्ज हो चुका है। यही वजह है कि बुधवार को जलस्तर स्थिर रहा। जबकि पिछले चार दिन में 40 सेंटीमीटर पानी घट गया था। जलस्तर घटने के बाद गांवों से पानी लगभग हट गया है। हालांकि गांवों के रास्तों पर अभी कीचड़ व गंदगी पसरी हुई है लेकिन ग्रामीणों को गांवों में जलभराव से राहत मिल गई है। जलस्तर बढ़ने पर खादर क्षेत्र के 19 गांवों के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। कई गांवों में तो पानी भी भर जाता है। उधर ग्रामीणों को जलभराव से तो राहत मिल गई है लेकिन अभी तक खेतों में पानी भरा हुआ है। जिसके कारण किसानों को पशुओं के लिए चारा काटने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पानी में घुसकर ग्रामीण चारा काटने को मजबूर हैं। उधर जेई बाढ़खंड प्रदीप कुमार ने बताया कि जलस्तर स्थिर रहने की संभावना है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ganga 39 s water level stabilized villagers get relief from waterlogging