DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनमोल हत्याकांड में पुलिस के खिलाफ कोर्ट पहुंचा पिता

सरकार के जीरो टॉलरेंस वाले दावे को पुलिस रिपोर्ट दर्ज न कर सच करने में लगी है। अनमोल के अपहरण और हत्याकांड की रिपोर्ट डेड़ माह बाद भी दर्ज नहीं की गई। पीड़ित पिता डेड़ माह से उत्तराखंड ऊधमसिंह नगर और रामपुर पुलिस के बीच भटक रहा है। लेकिन उसे हर जगह से मायूसी ही मिली है। इसलिए अब अदालत का सहारा लेगा।

सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र के मुहल्ला विकास नगर निवासी सोमवीर सिंह के पुत्र अनमोल का अपहरण रामपुर से17 नवंबर को कर लिया गया था। अगले दिन 18 नवंबर को उसका शव उत्तराखंड के जनपद ऊधमसिंह नगर के थाना सितारगंज के पास पेड़ से लटका मिला था। सितारगंज पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया था, लेकिन घटना की रिपोर्ट दर्ज नहीं की। पोस्टमार्टम में गला दबाकर हत्या किए जाने की पुष्टि हुई थी। तब से पिता बेटे की हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराने को कभी रामपुर पुलिस और कभी सितारगंज पुलिस के पास भटक रहा है, लेकिन उसकी सुनवाई नहीं की जा रही है। पीड़ित पिता ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग की थी। इस पर सिविल लाइंस पुलिस ने जांच की। जांच में लिखा कि युवक का शव सितारगंज थाना जनपद ऊधमसिंह नगर उत्तराखंड में मिला है। इसलिए शिकायतकर्ता को सितारगंज में ही रिपोर्ट कराने की हिदायत दी गई है, जबकि सितारगंज पुलिस का कहना है अपहरण रामपुर से हुआ था। इसलिए वहीं रिपोर्ट दर्ज कराएं। मृतक के पिता सोमवीर का भी यही कहना है कि बेटे का अपहरण सिविल लाइंस थाना क्षेत्र से ही किया गया है। इसलिए रामपुर में ही रिपोर्ट की जाए, लेकिन डेढ़ माह की भागदौड़ के बाद पिता थक गया है। अब वह अदालत का सहरा लेगा। ताकि जवान बेटे की हत्या करने वालों को सजा दिला सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Father will sue police in court in anmol murder case