DA Image
26 नवंबर, 2020|1:48|IST

अगली स्टोरी

प्रार्थना पत्रों की सुनवाई के लिए समय हुआ निर्धारित

default image

अम्बेडकरनगर । जनपद न्यायाधीश अमरजीत त्रिपाठी ने अधिवक्ताओं के सहूलियत के लिए लम्बित/नवीन प्रार्थना पत्रों की सुनवाई के लिए समय निर्धारित कर दिया है जिससे निर्धारित समय में अधिवक्ताओं अपने मामलों में पैरवी कर सकें। जिला जज का यह आदेश अग्रिम आदेश तक के लिए प्रभावी रहेगा।उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुपालन में वर्चुअल कोर्ट के माध्यम से लम्बित/नवीन जमानत प्रार्थना पत्र तथा लम्बित नवीन अग्रिम जमानत प्रार्थना-पत्र की सुनवाई/निस्तारण सभी कोर्ट का अलग-अलग समय निर्धारित किया गया है। जनपद न्यायाधीश की अदालत में सुबह 11 बजे से साढ़े 11 बजे तक एवं दो बजे से सवा दो बजे तक, प्रधान न्यायाधीश पारिवारिक न्यायालय में साढ़े 12 बजे से एक बजे तक, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के कोर्ट में एक बजकर 20 मिनट से पौने दो बजे, न्यायिक मजिस्ट्रेट के कोर्ट में पौने दो बजे से दो बजे, विशेष न्यायाधीश पाक्सो एक्ट के कोर्ट में सवा दो बजे से पौने तीन बजे, विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट के कोर्ट में पौने तीन बजे से सवा तीन बजे, सिविल जज सीनियर डिवीजन के कोर्ट में सवा तीन बजे से तीन बजकर 40 मिनट, सिविल जज जूनियर डिवीजन के कोर्ट में तीन बजकर 40 मिनट से चार बजकर 10 मिनट एवं जेएम टांडा के कोर्ट में चार बजकर 10 मिनट से चार बजकर 40 मिनट तक का समय सुनवाई के लिए निर्धारित किया गया है। जिला जज ने दिए आदेश में सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करने के साथ लम्बित जमानत प्रार्थना पत्रों एवं नए प्रार्थना पत्रों की संख्या के दृष्टिगत समय में परिवर्तन किया जा सकेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Time has been fixed for hearing the application