DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अंबेडकर नगर › 27.76% लाभार्थियों के ही बने हैं गोल्डेन कार्ड
अंबेडकर नगर

27.76% लाभार्थियों के ही बने हैं गोल्डेन कार्ड

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरPublished By: Newswrap
Thu, 16 Sep 2021 11:20 PM
27.76% लाभार्थियों के ही बने हैं गोल्डेन कार्ड

अम्बेडकरनगर। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना केंद्र और प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। योजना का नोडल चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग है। भले ही योजना सरकार की अति महत्वाकांक्षी योजना है लेकिन इसके पात्र लोगों की योजना में खास रुचि नहीं है। इसकी बानगी योजना का अब तक बने गोल्डन कार्डों की संख्या है।

2011 की आर्थिक जनगणना के अनुसार गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले इस योजना के पात्र हैं। जिले में योजना के पात्र परिवारों की संख्या 164869 है। इसमें कुल लाभार्थियों की संख्या 824345 है। जिले के 16 सौ गांवों के 164869 परिवारों के 824345 परिवारों में से महज 228880 का ही अभी तक गोल्डेन कार्ड बना है। यानि पात्र व्यक्तियों में से केवल 27.76 फीसदी लोगों ने ही गोल्डन कार्ड बनवाया है। वहीं 48.87 प्रतिशत ऐसे परिवार हैं जिनके किसी एक सदस्य का भी गोल्डन कार्ड नहीं बना है। गोल्डन कार्ड से आच्छादित परिवारों की संख्या 84284 है। यानि 52.17 फीसदी परिवारों में ही कम से कम एक गोल्डन कार्ड है। एक तिहाई से भी कम गोल्डन कार्ड बनाना चिंताजनक है। इसी के चलते गुरुवार से गोल्डन कार्ड बनाने का विशेष अभियान शुरू हुआ। अभियान 30 सितंबर तक चलेगा। इसमें सभी ब्लॉकों के कम से कम 10 गांव में शिविर आयोजित कर गोल्डन कार्ड बनाया जाएगा। गुरुवार को पहले दिन 90 गांवों में शिविर का आयोजन हुआ। हालांकि खराब मौसम के चलते अपेक्षित संख्या में गोल्डन कार्ड नहीं बन सका।

आयुष्मान योजना का गोल्डेन कार्ड एक नजर में

.जनपद में कुल गांव-1600

.जनपद में कुल पात्र परिवार-164869

.जनपद में कुल योजना का पात्र-824345

.अब तक बना कुल गोल्डेन कार्ड-228880

.ऐसे परिवार जिनमें कार्ड बना है-84284

ऐसे परिवार जिनमें एक भी कार्ड नहीं बना है-80585

सितम्बर माह में बना 4859 का गोल्डेन कार्ड

वर्तमान सितम्बर माह में गोल्डन कार्ड बनाने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। पहले श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिकों का गोल्डन कार्ड 11 अस्पतालों में शिविर आयोजित कर बनाया गया। वहीं गुरुवार से गांवों में शिविर लगाकर कार्ड बनाने का अभियान शुरू हुआ। अब तक इस माह में 4859 का कार्ड बनाया जा चुका है। योजना के जिला समन्वयक डॉ मुकुल त्रिपाठी ने बताया कि बीते अगस्त माह में 10049 का गोल्डन कार्ड बनाया गया था।

‘कम गोल्डेन कार्ड बनना चिन्ता का विषय है। इसी के चलते गांवों में शिविर लगाकर कार्ड बनाया जा रहा है। सभी पात्र कार्ड बनवाकर पांच लाख तक के मुफ्त इलाज का लाभ प्राप्त करें ऐसा प्रयास है।

डॉ श्रीकांत शर्मा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

संबंधित खबरें