DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अंबेडकर नगर › राहे हक पर मरने की चाहत रखते थे इमाम हुसैन: जाफरी
अंबेडकर नगर

राहे हक पर मरने की चाहत रखते थे इमाम हुसैन: जाफरी

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 11:10 PM
राहे हक पर मरने की चाहत रखते थे इमाम हुसैन: जाफरी

अम्बेडकरनगर। कर्बला की ओर कूच करने से पहले इमाम हुसैन ने कहा था जो बलिदान दे सकता हो, अपने प्राण न्यौछावर कर सकता हो वह मेरे साथ आए। इस बात से स्पष्ट होता है कि इमाम हुसैन को राजपाट अथवा सल्तनत की चाहत कदापि न थी। दूसरी तरफ राहे हक पर मरने की चाहत हिलोरें मार रहीं थीं।

उक्त विचार मौलाना गुलजार हुसैन जाफरी ने मीरानपुर इमामबाड़े में जाहिद अली, गुड्डू व फैजी की ओर से सैयद आबिद अली पुत्र सैयद लियाकत अली के पुण्य के लिए आयोजित वार्षिक मजलिस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। मौलाना गुलजार हुसैन ने कहा कि ये कमाल है हुसैन इब्ने अली का जिन्होंने धर्म, सत्य, न्याय, मानवता की रक्षा के लिए दिए गए महान बलिदान में रक्त की एक बूंद भी व्यर्थ नहीं जाने दिया। इसके पूर्व शायर रेहान अकबरपुरी, इफ्तेखार हुसैन ने पेशखानी और मीसम अली, डॉ. आमिर अब्बास एवं दानिश अली ने सोजखानी तथा रजा अनवर वह हमनवा ने नौहाखानी की।

संबंधित खबरें