DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  अंबेडकर नगर  ›  20 जून तक धान की नर्सरी डालने का अच्छा समय

अंबेडकर नगर20 जून तक धान की नर्सरी डालने का अच्छा समय

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:02 AM
20 जून तक धान की नर्सरी डालने का अच्छा समय

दुलहूपुर। खरीफ की फसल में धान का खास स्थान है। जिले के तमाम किसानों की उम्मीदें इस फसल से जुड़ी हैं, क्योंकि जनपद के एक बड़े क्षेत्रफल में धान की खेती की जाती है। धान की नर्सरी डालने की तैयारी किसानों ने शुरू कर दी है। किसान खेतों की जुताई करके इसे नर्सरी डालने के काबिल तैयार करने में जुटे हैं, कहीं-कहीं तो किसानों ने नर्सरी डाल भी दी है, लेकिन अधिकतर किसानों ने अभी नर्सरी नहीं डाली है।

खेती किसानी से जुड़े विशेषज्ञों ने धान उत्पादक कृषकों को धान की नर्सरी से ही चौकन्ना रहने की हिदायत दी है। नर्सरी डालने का सही समय वर्तमान में चल रहा है। मई के आखिरी सप्ताह से लेकर 20 जून तक धान की नर्सरी डालने का समय अच्छा माना जाता है। हिंदुस्तान ने किसानों की सुविधा व जानकारी हेतु धान की नर्सरी तैयार करने एवं बरती जाने वाली सावधानी संबंधी जानकारी एकत्र की है जो धान की नर्सरी डालने जा रहे किसानों के लिए काम की खबर है। सबसे पहले खेत का चुनाव एवं तैयारी धान की नर्सरी लगाने का सबसे अहम हिस्सा है। किसानों को नर्सरी लगाने के लिए चिकनी दोमट या दोमट मिट्टी का चुनाव करना चाहिए। शुरू में खेत की दो से तीन जुताई करके खेत को समतल व खेत की मिट्टी को भुरभुरी करें, खेत में पानी निकलने का सही इंतजाम भी होना चाहिए, मध्यम व देर से पकने वाली किस्मों की बुवाई जून के दूसरे हफ्ते तक करना बेहतर है, जबकि जल्दी पकने वाली फसल की नर्सरी जून के अंतिम हफ्ते तक डालनी चाहिए।

बोआई की विधि: किसानों को चाहिए कि वह धान के बीजों को अंकुरित करने के बाद ही बुवाई करें, अंकुरित करने के लिए धान को पहले पानी में भिगो दें, इसके बाद बीजों को पानी से छान कर इसे जूट के बोरे से ढक कर 15 से 20 घंटे के लिए छोड़ दें। उस के बाद ही बुआई करें। बीजों को नर्सरी में सीधा बोने पर अंकुरित होने में तीन से चार दिन का अधिक समय लगता है।

सिंचाई: बुआई के समय खेत की सतह में पानी का रहना आवश्यक है। बुआई के तीन से चार दिनों तक खेत की सतह को पानी से तर रखें, जैसे जैसे पौधे बढ़ते जाएं, सिंचाई में पानी की मात्रा बढ़ाते जाएं, अधिक पानी होने पर पानी को खेत से निकाल देना चाहिए ।

नर्सरी में खरपतवार नियंत्रण: खरपतवार की रोकथाम के लिये बोआई के पहले या दूसरे दिन खरपतवार नाशक दवा का छिड़काव कर देना चाहिए। इसके अलावा एक से दो बार जरूरत के मुताबिक खरपतवारों को हाथ से भी उखाड़ लेना चाहिए।

रोपाई: नर्सरी लगाने के तीन से चार हफ्ते बाद पौध रोपाई के लिए तैयार हो जाती है। रोपाई के लिए पौध को खेत से उखाड़ने के पांच से छह दिन पहले एक किग्रा नाइट्रोजन प्रति सौ वर्ग मीटर नर्सरी के हिसाब से खेतों में डाल देनी चाहिए, ताकि स्वस्थ पौध मिल सके।

संबंधित खबरें