DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अंबेडकर नगर › नव दम्पत्तियों का कराओ परिवार नियोजन पाओ पुरस्कार
अंबेडकर नगर

नव दम्पत्तियों का कराओ परिवार नियोजन पाओ पुरस्कार

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 11:00 PM
नव दम्पत्तियों का कराओ परिवार नियोजन पाओ पुरस्कार

अम्बेडकरनगर। आशाओं के लिए अच्छी खबर है। उनको मेहनत का दो तरह से लाभ प्राप्त करने लायक खबर है। किसी भी नव दम्पप्ति को तीन साल तक परिवार नियोजन के लिए तैयार करने पर अलग अलग चरण में प्रोत्साहन राशि मिलेगी। कम से कम तीन चरण में दो हजार रुपए मिलेंगे।

आठ साधनों का चुनाव करें। परिवार नियोजन के प्रति जिम्मेदार बनें। परिवार नियोजन के आठ प्रमुख साधन हैं, जो पूरी तरह सुरक्षित भी हैं। इन साधनों में से दंपती कोई भी मनपसंद साधन अपना सकते हैं। सीएमओ डॉ श्रीकांत शर्मा ने बताया कि नव दंपती जब तक बच्चा न चाहें तब तक अस्थायी साधनों का इस्तेमाल कर सकते हैं। पहला बच्चा होने के बाद तीन साल तक अस्थायी साधनों का विकल्प चुना जा सकता है। गर्भ निरोधक के बारे में जागरूकता बढ़ाने और लोगों को परिवार नियोजन के संबंध में जागरूक करने के लिए हर साल 26 सितंबर को विश्व गर्भनिरोधक दिवस मनाया जाता है। बताया कि सभी साधन सुरक्षित हैं। परिवार नियोजन के स्थायी साधन यानि नसबंदी को पुरुष और महिलाएं दोनों अपना सकते हैं। उन पुरुषों को नसबंदी करवानी चाहिए जो शादी-शुदा हो और जिनकी उम्र 60 वर्ष से कम हो। उनके पास कम से कम एक बच्चा होना चाहिए जिसकी उम्र एक वर्ष से अधिक हो। पुरुष नसबंदी तभी करवानी चाहिए जब पत्नी ने नसबंदी न करवाई हो। पुरुष नसबंदी कभी भी करवाई जा सकती है। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सालिक राम पासवान ने बताया कि महिला नसबंदी प्रसव के सात दिन के भीतर, माहवारी शुरू होने के सात दिन के भीतर और गर्भपात होने के तुरंत बाद या सात दिन के अंदर करवाई जा सकती है। वह महिलाएं इस साधन को अपना सकती हैं जिनकी उम्र 22 वर्ष से अधिक और 49 वर्ष से कम हो। दंपती के पास कम से कम एक बच्चा हो जिसकी उम्र एक वर्ष से अधिक हो। पति ने पहले नसबंदी न करवाई हो और सुनिश्चित कर लें कि महिला गर्भवती न हो और प्रजनन तंत्र में संक्रमण न हो। महिला की सहमति भी नितांत जरूरी है।

दी जाएगी प्रोत्साहन राशि

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री अनिल मिश्रा ने बताया कि महिला नसबंदी पर 2000 रुपए, प्रसव पश्चात नसबंदी पर 3000 रुपए, पुरुष नसबंदी पर 3000 रुपए, प्रसव बाद पीपीआईयूसीडी लगवाने पर 300 रुपए और गर्भपात के बाद आईयूसीडी लगवाने पर 300 रुपए लाभार्थी के खाते में देने का नियम है। जिला प्रबंधक परिवार नियोजन सुनील* वर्मा ने बताया गया कि जनपद के समस्त चिकित्सा इकाइयों पर एवं सामुदायिक स्तर तक विश्व गर्भ निरोधक दिवस का आयोजन चिकित्सा अधीक्षक की अध्यक्षता में आयोजित कराए गए। परिवार कल्याण के महानिदेशक की ओर से संयुक्त निदेशक डॉ अश्विनी कुमार ने सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को पत्र भेजा है। पत्र आशाओं के लिए प्रोत्साहन योजना शुरू करने की जानकारी दी गई है। इसमें शादी के बाद दो साल के तक गर्भ धारण न करने के लिए नव दम्पप्ति को तैयार करने और दो साल के अंतराल के पश्चात गर्भ धारण करने पर आशा को 500 रुपए देने का प्राविधान किया गया है। साथ ही पहले बच्चे के बाद तीन वर्ष तक दूसरे बच्चे के न होने या दूसरे बच्चे के जन्म में तीन साल का अंतराल रखने पर फिर आशाओं को 500 सौ रुपए प्रदान किए जाने की और दो बच्चों के पश्चात परिवार नियोजन का स्थाई साधन अपनाने पर फिर से आशाओं को 1000 रुपए का प्रोत्साहन राशि दिए जाने की व्यवस्था की गई है।

कब कितनी मिलेगी आशा को प्रोत्साहन राशि

.शादी के दो साल तक गर्भ धारण न होने के लिए तैयार करने पर-500 रुपए

.पहले बच्चे के जन्म से दूसरे बच्चे के जन्म में तीन साल अंतर रखने की अस्थाई व्यवस्था कराने पर-500 रुपए

.दो बच्चों के जन्म के बाद परिवार नियोजन का स्थाई उपाय करने पर-1000 रुपए

‘शासन के निर्देश के अनुसार आशाओं को प्रोत्साहन राशि देने की व्यवस्था हो रही है। जल्द ही इस बाबत आशाओं की कार्यशाला होगी और योजना का लाभ लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

डॉ सालिकराम पासवान, अपर सीएमओ आरसीएच

संबंधित खबरें