DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  अंबेडकर नगर  ›  अनलॉक के बाद भी बुक व स्टेशनरी कारोबारियों में छाई है मायूसी

अंबेडकर नगरअनलॉक के बाद भी बुक व स्टेशनरी कारोबारियों में छाई है मायूसी

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:02 AM
अनलॉक के बाद भी बुक व स्टेशनरी कारोबारियों में छाई है मायूसी

दुलहूपुर। अनलॉक की घोषणा के बाद भी जिले के बुक व स्टेशनरी कारोबारियों में मायूसी छाई है, क्योंकि इन पर लगातार दूसरे साल कोरोना की मार पड़ी है। स्कूल बंद है और अभी तक दुकानों पर कोरोना कफ्र्यू के चलते ताले लटके हुए हैं। ऐसे में लाखों की स्टेशनरी व्यापारियों के गोदामों व दुकान में डंप पड़ी है, जिसके कारण बुक सेलर्स को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। इनका कहना है कि अब दुकान खोलने की छूट तो मिली है मगर जब स्कूल कालेज बन्द रहेंगे तो किताब, कापी समेत अन्य स्टेशनरी की खरीदारी को कौन आयेगा।

जलालपुर में कॉपी किताब समेत स्टेशनरी के थोक विक्रेता मो. राशिद ने बताया कि पिछला साल भी हम कारोबारियों के लिये बुरा गुजरा था, अबकी साल उम्मीद जगी थी धीरे धीरे स्कूल खुलने लगे थे। एक तरफ परीक्षाओं की तैयारी चल रही थी तो दूसरी तरफ स्कूलों में प्रवेश प्रक्रिया जोर पकड़ रही थी। ऐसे में कारोबारियों ने सत्र 2021 के लिए किताबें व स्टेशनरी मंगवा ली थी, लेकिन सत्र शुरू होते होते एक बार फिर कोरोना ने कारोबार चौपट कर दिया। स्कूल तो बन्द हुए ही दुकानों के शटर गिर गये। रफीगंज बाजार में कॉपी किताब की दुकान किये प्रदीप कुमार ने कहा कि ऐसा ही हाल रहा तो बुक सेलर्स को दूसरा कोई काम धंधा ढूंढना पड़ेगा। दुकानों में माल भरे पड़े हैं। निजी स्कूलों में हर साल पाठ्यक्रम बदलता रहता है, इसका भी दुकानदारों को नुकसान उठाना पड़ेगा।

संबंधित खबरें