DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  अंबेडकर नगर  ›  फजीहत के बाद व्यवस्था सुधारने की कवायद

अंबेडकर नगर फजीहत के बाद व्यवस्था सुधारने की कवायद

हिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:02 AM

फजीहत के बाद व्यवस्था सुधारने की कवायद

अम्बेडकरनगर। कोरोना कॉल ने स्वास्थ्य सेवाओं की पोल खोलकर रख दी है। शासन और प्रशासन की बेहद फजीहत हुई है। अब जब 18 प्लस और बुजुर्गों के लिए विशेष टीकाकरण का अभियान शुरू हो रहा है तब व्यवस्था को बेहतर बनाने की कवायद हो रही है। इसके लिए निकाय प्रशासन का सहयोग लिया जा रहा है। शासन ने निकाय के धन से अस्पतालों की दशा सुधारने का निर्णय लिया है। निकाय के प्रतिनिधियों को एक-एक अस्पताल गोद लेने की सलाह दी गई है। पेश है एक रिपोर्ट-

सीएचसी मीरानपुर को अकबरपुर पालिकाध्यक्ष ने लिया गोद

अम्बेडकरनगर। जिला मुख्यालय नगर अकबरपुर में एक सामुदायिक स्वास्थ्य और दो शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। इसमें से एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मोहल्ला मीरानपुर को अकबरपुर पालिका अध्यक्ष सरिता गुप्ता ने गोद लेने का ऐलान किया है। हालांकि पालिकाध्यक्ष को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मीरानपुर में स्टाफ की तैनाती कराने के लिए कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ेगा। दरअसल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मीरानपुर अकबरपुर स्वीकृत पदों के सापेक्ष आधे पर भी स्टाफ की तैनाती नहीं है। यहां सर्जन के तैनाती न होने से ऑपरेशन नहीं होते हैं। कई आयुष के चिकित्सक की तैनाती हैं। उन्हीं के भरोसे चिकित्सा व्यवस्था संचालित है। जिला मुख्यालय नगर का प्रमुख अस्पताल होने के बावजूद रेफर संस्कृति प्रभावी है ऐसे में चिकित्सा व्यवस्था का आंकलन किया जा सकता है। फिलहाल पालिका अध्यक्ष ने शासन की मंशा के अनुसार चिकित्सा व्यवस्था को सुदृढ़ करने का संकल्प लिया है।

किस पद के कितने नियुक्त हैं स्टाफ:

अकबरपुर नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मीरानपुर में एमबीबीएस समेत डॉक्टर के कुल 12, पैरामेडिकल स्टाफ के 84, नान मेडिकल स्टाफ आठ और स्वीपर के दो पद सृजित हैं। इसके सापेक्ष 11 आयुष के चिकित्सक, 27 एएनएम, तीन पीएमडब्ल्यू, चार फार्मासिस्ट, पांच एलटी, 17 सीएचओ की तैनाती है।

बेवाना पीएचसी में भी स्टाफ का संकट:

ब्लॉक अकबरपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मीरानपुर के अधीन बेवाना की पीएचसी भी है। यहां भी स्टाफ की भारी कमी है एकमात्र आयुष के चिकित्सक की तैनाती है। इससे सहज ही चिकित्सा व्यवस्था का आंकलन किया जा सकता है। हालांकि मौके पर कोरोना का टीका लगाने का विशेष अभियान चल रहा है। बेवाना पीएचसी का उच्चीकरण हो गया है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बना दिया गया है। हालांकि कोरोना संकट से शुभारंभ नहीं हो सका और अभी तक स्टाफ की भी तैनाती नहीं हुई है।

संबंधित खबरें