ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश अंबेडकर नगरअम्बेडकरनगर-हर चुनाव में अखरेगी टाइगर की कमी

अम्बेडकरनगर-हर चुनाव में अखरेगी टाइगर की कमी

अम्बेडकरनगर हिन्दुस्तान संवाद नियति के आगे सभी बेबस होते हैं। भले ही कर्म और...

अम्बेडकरनगर-हर चुनाव में अखरेगी टाइगर की कमी
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,अंबेडकर नगरTue, 27 Apr 2021 10:10 PM
ऐप पर पढ़ें

अम्बेडकरनगर हिन्दुस्तान संवाद

नियति के आगे सभी बेबस होते हैं। भले ही कर्म और किस्मत को एक दूसरे का पूरक माना जाता है मगर यह भी सत्य है कि कर्म करने पर कतिपय लोगों की किस्मत नहीं चमकती है। इसकी बानगी प्रधान से लेकर एमपी-एमएलए तक का चुनाव लड़ चुके टाइगर राम निहोर पटेल हैं।

अंतिम चुनाव तो वो पूरा देख ही नहीं सके। जन प्रतिनिधि बनने की चाह पूरा होने के पहले ही वे क्रूर नियति के शिकार बन गए। क्रूर नियति की ओर से इससे अधिक नाइंसाफी नहीं की जा सकती है। कारण जो शख्स सबके हक की लड़ाई आजीवन लड़ता रहा हो उसे ही अंत में जिला अस्पताल में एक अदद बेड तक नसीब नहीं हुआ। कोरोना ने पहले उनकी पत्नी की जान ली थी फिर उन्हें भी मौत की नींद सुला दी। ब्लॉक कटेहरी के नन्दूपर के निवासी और टाइगर के नाम से चर्चित रिटायर फौजी राम निहोर पटेल नन्दूपुर से प्रधान पद के भी प्रत्याशी थे। टाइगर राम निहोर पटेल पंचायत से लेकर लोकसभा तक के सभी चुनाव लड़ चुके हैं। बीते जलालपुर विधानसभा के उपचुनाव में भी उनकी दावेदारी थी। एक तरफ से हर चुनाव के सिपाही रहे टाइगर रामनिहोर पटेल के निधन से अब चुनाव में उनकी भागीदारी नहीं दिखाई देगी। सेना से रिटायर होने के बाद अपना दल से सियासत करने वाले सभी बड़ी पार्टियों के खिलाफ मुखर रहते थे। उन्हें कमेरा समाज का सच्चा हितैषी कहा जाता था। एक अदद बाइक से कार्यालय से कार्यालय की दौड़ और पीड़ितों को न्याय दिलाने का संघर्ष करने वाले टाइगर राम निहोर पटेल के निधन को राजनीतिक दलों ने जिले की सियासत के लिए अपूर्ण क्षति बताया है। सभी राजनैतिक दलों ने उनके निधन पर शोक जताया है। अपना दल एस के जिला उपाध्यक्ष फूलचंद्र पटेल ने कहा कि जिले के पीड़ित, शोषित और कमेरा समाज ने अपना सच्चा हितैषी खो दिया है।

विधानसभा चुनाव 2023 के सारे अपड्टेस LIVE यहां पढ़े