DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उन्नाव रेप केस : सीबीआई ने पेश की प्रगति रिपोर्ट

उन्नाव रेप केस : सीबीआई ने पेश की प्रगति रिपोर्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट में उन्नाव गैंगरेप कांड की जांच कर रही सीबीआई ने प्रगति रिपोर्ट पेश की और पीड़िता के पिता के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉक्टरों की रिपोर्ट में मतभिन्नता होने पर एम्स के डॉक्टरों से मेडिकल कराने की अनुमति मांगी। राज्य सरकार के अपर महाधिवक्ता नीरज त्रिपाठी ने कोर्ट को बताया कि पाक्सो एक्ट के तहत उन्नाव की विशेष अदालत में लंबित मुकदमे को लखनऊ सीबीआई अदालत में स्थानांतरित करने का पत्र जारी किया गया है। अनुमोदन के साथ ही सभी मुकदमे सीबीआई कोर्ट में सुने जाएंगे। कोर्ट ने याचिका की अगली सुनवाई की तिथि 3 जुलाई नियत करते हुए प्रगति रिपोर्ट मांगी है।

जनहित याचिका की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश डीबी भोंसले तथा न्यायमूर्ति सुनीत कुमार की खंडपीठ कर रही है। आरोपी विधायक के अधिवक्ता ने सीबीआई पर निष्पक्ष विवेचना न करने का आरोप लगाया है और कहा है कि विधायक कुलदीप सेंगर को बचाव का मौका नहीं दिया जा रहा है। कोर्ट ने इस मामले में हस्तक्षेप करने से इनकार करते हुए कहा कि वह सीबीआई के समक्ष बचाव कर सकते हैं। जमानत पर छूटे आरोपियों की जमानत याचिका निरस्त कराने के मुद्दे पर सीबीआई के विधि सलाहकार प्रभात कुमार ने बताया कि जमानत हाईकोर्ट से दी गई है। अर्जी दाखिल है, जुलाई में सुनवाई होगी।

एक आरोपी शुभम की आयु निर्धारण के मुद्दे पर सीबीआई को निर्देश देने से भी कोर्ट ने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि ऐसा करना विवेचना में हस्तक्षेप करना होगा और जांच में अनावश्यक देरी होगी।

विधायक सेंगर का कहना था कि मृतक की मारपीट में वह शामिल नहीं था और सीबीआई उसका पक्ष नहीं सुन नही है। कोर्ट ने सीबीआई को कानून के तहत जांच व कार्यवाही की छूट दी और रिपोर्ट मांगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Unnao Rape Case: Progress Report submitted by CBI