DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान की मौत पर एसआरएन में हंगामा

किसान की मौत पर एसआरएन में हंगामा

कौंधियारा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत पीड़ी के मजरा कोल्हुवा में बिजली का तार खींचने को लेकर करीब एक हफ्ते पूर्व पिटाई से घायल अशोक पाल की एसआरएन अस्पताल में मौत के बाद जमकर हंगामा हुआ। सपा कार्यकर्ता व गांव के लोगों ने धरना प्रदर्शन किया। बताया जा रहा है कि शव का पोस्टमार्टम होने में देरी होने से लोग नाराज थे। एसपी यमुनापार समेत छह थानों की फोर्स भी पहुंच गई। बाद में पोस्टमार्टम कराने का आश्वासन दिया तो लोग शांत हुए। देर रात शव का पोस्टमार्टम कराया गया।

क्षेत्र के कोल्हुवा निवासी सियाराम पांडेय ने खेत में सिचाई के लिए नया ट्रांसफार्मर लगवाया है। सात अगस्त 2019 को वह अपने खेत तक बिजली का तार खिंचवा रहे थे। गांव के ही किसान अशोक पाल (40)पुत्र श्री नाथ पाल का घर रास्ते में पड़ता है। विद्युत पोल गड़ गया था। अशोक पाल ने अपने दरवाजे पर से तार खीचने से मना कर दिया। इसी को लेकर दोनों में कहासुनी शुरू हो गई। कहासुनी मारपीट में बदल गई। उसी समय कुछ दूरी पर खड़ी सियाराम पांडेय की पत्नी नीलम भी आ गई । नीलम और अशोक पाल में भी मारपीट हुईं। आक्रोशित नीलम ने पास में पड़े पत्थर से अशोक पाल को मार दिया। पत्थर अशोक पल के गर्दन में लगा। अशोक पाल घायल हो कर गिर गया। परिजन अशोक पाल को इलाज के लिए एसआरएन ले गए। बुधवार को सुबह उसकी मौत हो गई। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। परिवार में कोहराम मच गया। परिवार व गांव से दर्जनों लोग एसआरएन पहुंच गए। शाम हो गई पर शव का पोस्टमार्टम नहीं किया गया। जिससे लोग आक्रोशित हो गए और हंगामा करने लगे। सपा के कार्यकर्ता व राज्य सभा सांसद रेवती रमण सिंह भी समर्थकों संग पहुंच गए। हंगामा बढ़ गया और सभी धरने पर बैठ गए। एसआरएन में हंगामा होने होने की जानकारी मिलने पर कई पुलिस अफसर व एसपी यमुनापार दीपेन्द्र नाथ चौधरी व छह थानों की फोर्स पहुंच गई। लोग आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई व पोस्टमार्टम में देरी होने के लिए लापरवाही का आरोप लगाने लगे। रात में अफसरों ने पोस्टमार्टम कराने का आश्वासन दिया तो लोग शांत हुए। दूसरी ओर अशोक की मौत से दो बेटे, एक बेटी व परिवार के अन्य लोगों का हाल बेहाल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:People did agitation in SRN