Charge sheet filed for assistant professor for forgery - असिस्टेंट प्रोफसर के फर्जीवाड़ा करने पर आरोप पत्र दाखिल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

असिस्टेंट प्रोफसर के फर्जीवाड़ा करने पर आरोप पत्र दाखिल

असिस्टेंट प्रोफसर के फर्जीवाड़ा करने पर आरोप पत्र दाखिल

असिस्टेंट प्रोफसर के फर्जीवाड़ा करने पर आरोप पत्र दाखिल

सीएमपी डिग्री कॉलेज के एक असिस्टेंट प्रोफेसर के खिलाफ दर्ज हुई थी एफआईआर

पुलिस की जांच में खुलासा हुआ कि हाईस्कूल व इंटर की लगाई थी फर्जी मार्कशीट

सीएमपी डिग्री कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफसर अमित सिंह के खिलाफ फर्जीवाड़ा करने के आरोप में कर्नलगंज पुलिस ने आरोप पत्र दाखिल कर दिया है। इस केस की अग्रिम विवेचना में भी पुलिस ने असिस्टेंट प्रोफसर को आरोपी बनाया है। उनके खिलाफ इविवि के पूर्व छात्र नेता ने कर्नलगंज थाने में फर्जीवाड़ा करने की एफआईआर कराई थी। इस प्रकरण में असिस्टेंट प्रोफसर का कहना है कि डीआईजी ने उनकी गुहार पर फिर से जांच करने का आदेश दिया है।

छात्र नेता ने कराई थी एफआईआर

इविवि के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रोहित मिश्र ने 27 मई 2018 को प्रतापगढ़ निवासी अमित सिंह के खिलाफ कर्नलगंज थाने में फर्जीवाड़ा करने की एफआईआर कराई थी। आरोप था कि अमित सिंह ने हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के अंकपत्र में हेराफेरी करके डीफिल में दाखिला लिया। तत्कालीन विवेचक सतेन्द्र सिंह ने अमित सिंह को अपनी विवेचना में दोषी पाया। पुलिस को बोर्ड ऑफिस से पता चला कि अमित सिंह का हाईस्कूल में थर्ड डिविजन और इंटर में सेकेंड डिविजन था। जबकि अमित सिंह ने फर्स्ट डिविजन की मार्कशीट लगाई थी। विवेचक ने आरोप पत्र दाखिल कर दिया।

अग्रिम जांच में भी दोषी

आरोप पत्र दाखिल होने के बाद अमित सिंह की ओर से पुलिस अफसरों से अग्रिम विवेचना की गुहार लगाइ गई। केस की विवेचना दोबारा शुरू हुई। कर्नलगंज इंस्पेक्टर अरुण त्यागी ने जांच की तो पता चला कि मार्कशीट में फर्जीवाड़ा किया गया है। पुलिस ने तफ्तीश पूरी करने के बाद अमित सिंह के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर दिया।

फर्जी फंसाने का आरोप

असिस्टेंट प्रोफसर अमित सिंह का कहना है कि पुलिस ने किसी के दबाव में जांच की। डीआईजी केपी सिंह से उन्होंने मदद की गुहार लगाई थी। डीआईजी ने कुछ बिंदुओं पर फिर से जांच करने का आदेश दिया है। यूपी बोर्ड और सीएमपी डिग्री कॉलेज के प्रिंसिपल की ओर से दी गई मार्कशीट एक है। इसमें कोई फर्जीवाड़ा नहीं है। यह भी कहा कि असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर उनका चयन पीएचडी नहीं राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा यानी नेट की अर्हता के आधार पर हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Charge sheet filed for assistant professor for forgery