DA Image
27 फरवरी, 2020|2:51|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवरात्र से हनुमान जयंती तक मनाएंगे जश्न

नवरात्र से हनुमान जयंती तक मनाएंगे जश्न

अयोध्या राम मंदिर मामले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय पक्ष में आने के बाद देश में शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए संतों ने कोई जोश और उत्साह नहीं दिखाया। लेकिन अब जश्न भी मनेगा और उत्साह भी दिखाई देगा। इसका ऐलान संत सम्मेलन में मंच से विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने किया। उन्होंने 25 मार्च से शुरू हो रहे चैत्र नवरात्र से लेकर आठ अप्रैल हनुमान जयंती तक देशभर में जश्न मनाने की अपील संतों से की।

उन्होंने कहा कि नौ नवंबर को आए फैसले के बाद उनका मन कर रहा था कि एक छोटे बच्चे की तरह व्यवहार करें, लेकिन देश में अमन चैन कायम रखने के लिए ऐसा नहीं किया। उन्होंने सभी कार्यकर्ताओं से अपील की है कि 25 मार्च से आठ अप्रैल तक के समय को रामोत्सव के रूप में मनाएं। पौने तीन लाख गांवों से आंदोलन की शुरुआत में शिला ली गई थी। सभी जगह शोभायात्रा निकाली जाए। भगवान राम के चित्र हाथ में हों और गांव के चौराहे पर सभा हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए जो ट्रस्ट बन रही है वो एक न्यूनतम चंदे की राशि तय करें। हर हिन्दू परिवार के हर सदस्य से चंदा लिया जाए। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति ने मंदिर बनाने का पूरा खर्च वहन करने की बात कही। साथ ही प्रस्ताव दिया कि मंदिर का नाम उनके नाम पर हो। इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया। कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि मंदिर हर हिन्दू के सहयोग से बनेगा, लेकिन नाम तो राम का ही होगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Celebration will be held from Navratri to Hanuman Jayanti