अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक्सिस बैंक के 26 कर्मचारियों पर अब पुलिसिया गाज गिरना तय

एक्सिस बैंक में 22 करोड़ 37 लाख के घपले में बैंक के 26 कर्मचारियों ने खेल किया था। जांच में खुलासा होने पर आरोपी सभी कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा चुकी है और अब पुलिसिया कार्रवाई में भी गाज गिरना लगभग तय माना जा रहा है। बुधवार को मुम्बई से पहुंचे एक्सिस बैंक के डिप्टी डॉयरेक्टर से एसआईटी ने जानकारी ली। पूछताछ में पता चला कि बैंक कर्मचारी और शुआट्स के कर्मचारियों की मिली भगत से ही करोड़ों रुपये की हेराफेरी की गई थी। एक्सिस बैंक के हेड ऑफिस मुम्बई के डिप्टी डॉयरेक्टर मलप्पा डी पाटिल ने ही 22 करोड़ 37 लाख रुपये के घपले की जांच की थी। अब इस केस की जांच कर रही एसआईटी ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था। बुधवार को पाटिल इलाहाबाद पहुंचे। पुलिस लाइन में एसआईटी ने उनसे पूरी जांच रिपोर्ट मांगी और उसका अध्ययन किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि 2012 से लेकर 2017 तक बैंक के 26 कर्मचारियों की मिली भगत से हेराफरी की गई थी। इसमें बैंक मैनेजर से लेकर छोटे कर्मचारी भी शामिल थे। उनकी रिपोर्ट पर बैंक अधिकारियों ने आठ कर्मचारियों को निष्कासित कर दिया था। छह लोग निलंबित कर दिए गए थे। चार लोगों ने खुद ही नौकरी छोड़ दी थी। बाकी लोगों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की गई थी। सभी 26 बैंक कर्मचारी अब पुलिस की जांच में उनकी निगाह पर हैं। उनके खिलाफ साक्ष्य मिलते ही पुलिस कार्रवाई करेगी। पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि बैंक कर्मचारी और शुआट्स कर्मचारी ने मिलकर चार तरीके से खेल किया था। पहला शुआट्स के बैंक खाते से ही सीधे दूसरे के खाते में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन किया गया था। दूसरा फर्जी चेक से रुपये निकाले गए थे। तीसरा चेक नंबर से सीधे कंप्यूटर में इंट्री कर दी गई और रुपये निकाल लिए गए। चौथा चेक पर नंबर बढ़ाकर खेल हुआ किया गया था। पांच हजार के चेक को 50 हजार रुपये करके निकाला गया। पुलिस लाइन में एसपी क्राइम बृजेश मिश्र और सीओ कर्नलगंज आलोक मिश्र ने पूछताछ के दौरान उनके लैपटॉप पर बैंक ट्रांजेक्शन की रिपोर्ट भी देखी और उसको विवेचना में शामिल किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Axis Bank's 26 employees are now on strike