DA Image
29 जनवरी, 2020|1:09|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेमौसम बारिश से आलू, सरसों व मटर की फसल को खतरा

default image

बेमौसम बारिश से आलू, सरसों व मटर की फसल पर खतरा मंडरा रहा है। दो दिन से बारिश होने से फिर से तापमान लुढ़क गया है, जिससे गेहूं किसानों को कुछ राहत मिल गई है।

पिछले कई दिनों से तापमान तेजी से बढ़ने के कारण गेहूं उत्पादक किसानों की बेचैनी बढ़ने लगी, क्योंकि अगर तापमान ऐसे ही बढ़ा तो गेहूं की फसल पर प्रभाव पड़ेगा। गेहूं की बाली में दाना पतला रहने की संभवना बढ़ने से किसान परेशान थे। मगर बुधवार को बारिश से तापमान गिरने से सर्दी बढ़ गई। वहीं गुरुवार को भी दिनभर रुक-रुककर बारिश होती रही, जिससे आलू, सरसों व मटर उत्पादक किसानों की दिक्कतें बढ़ गईं। वहीं दो दिन से हो रही बारिश से गेहूं की फसल को ऑक्सीजन मिली है। इस संबंध में जिला कृषि रक्षा अधिकारी राजेश कुमार का कहना है कि बारिस से सर्दी बढ़ना गेहूं की फसल के लिए अच्छा है। इससे गेहूं के उत्पादन पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Unseasonal rains threaten potato mustard and pea crops