DA Image
27 नवंबर, 2020|8:09|IST

अगली स्टोरी

गोंडा में हुए सड़क हादसे में दो और घायलों ने तोड़ा दम, मचा हाहाकार

default image

सोमवार की देररात गोंडा में हुए सड़क हादसे में दो और घायलों ने मंगलवार को दम तोड़ दिया। मंगलवार को चार शवों के गांव पहुंचने से हाहाकार मच गया। पूरे गांव में मातम छा गया। चार लोगों की मौत के कारण गांव के बाजार भी बंद रहे। गमगीन माहौल में चारों का अंतिम संस्कार किया गया। इसके साथ ही कई लोगों की हालत अभी नाजुक बनी हुई हैं। जिनका आगरा के साथ ही मेडिकल में उपचार चल रहा है। गोंडा के माजरा सेवा नगला निवासी नेत्रपाल सिंह पुत्र बादशाह सोमवार को अपने परिजनों व परिचितों के साथ अपने भांजे अमित व पुष्पेन्द्र पुत्र दिनेश निवासी मथुरा की शादी से पूर्व भात देने गये थे। मथुरा में भात की रस्म पूरी किये जाने के बाद कैंटर से रात को सभी वापस लौट रहे थे। इसी बीच टेटीगांव रोड स्थित नहर व बिरखू की नगलिया के बीच लोक निर्माण विभाग के साइन बोर्ड के पोल से कैंटर टकरा गया। टक्कर इतनी तेज थी कि कैंटर तीन हिस्सों में फट गया। मौका पाकर चालक फरार हो गया। कैंटर में सवार लोग गम्भीर रूप से घायल हो गये। राहगीरों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को निकालकर उपचार के लिए खैर सीएचसी भिजवाया। जिसमें 25 वर्षीय लोकेश पुत्र बनवारी लाल व 28 वर्षीय राकेश पुत्र मोहन लाल की मौत हो गई थी। अन्य घायलों को मेडिकल और आगरा के अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान मंगलवार को 35 वर्षीय अशोक पुत्र रतन सिंह और 12 वर्षीय प्रिया पुत्री उमेश की ने दम तोड़ दिया। मौत के बाद गांव में मंगलवार को चारों के शव पहुंचे तो चारों ओर चीख-पुकार मच गई। हर तरफ सन्नाटा पसरा रहा। गांव के बाजार बंद कर लोग मृतकों के घर पहुंचकर सांत्वना देते नजर आए। दोपहर बाद गमगीन माहौल में चारों का अंतिम संस्कार किया गया। इंसेटमजदूरी करता था अशोक मृतक अशोक पेशे से मजदूर था। वह दो भाईयों में बड़े थे। अशोक की चार पुत्री व एक पुत्र है। जबकि मृतक लोकेश इकलौता भाई था। पिता की मृत्यु भी करीब 22 वर्ष पहले हो चुकी है। पेशे से लोकेश किसान था, उसके दो बच्चें भी हैं। वहीं मृतक राकेश अविवाहित था। चार भाईयों में सबसे छोटा राकेश भाईयों के साथ मण्डी में आढत पर बैठता था।इंसेट:केबिन में होने से बची जानसोमवार की रात्रि मथुरा से लौटते समय कैंटर की केबिन में बैठे बच्चू सिंह पुत्र पदम सिंह ने चालक से कई वार कैंटर को धीरे चलाने की बात कही थी। लेकिन, चालक ने नहीं सुनी। नहर और नगला बिरखू के बीच लगे लोक निर्माण विभाग के साइन बोर्ड के पोल से कैंटर टकराने से पूर्व भी चालक को सचेत किया गया। लेकिन, उसने तेज गति बनाए रखी और हादसा हो गया। प्रत्यक्षदर्शी बच्चू सिंह ने बताया कि अगर केबिन में ना बैठे होते तो आज उनका भी अन्तिम संस्कार हो रहा था। केबिन में चालक के अलावा बच्चू सिंह, बाबू लाल, सुखपाल, नौरंगी बैठे थे। जिनके हाथ,पैर, छाती व मुंह में चोट है।

गांव में नही है कोई मरघट

कस्बा खैर के माजरा सेवा नगला में पोल से टकराने के बाद हुये हादसे में तीन लोगों व 12 वर्षीय किशोरी की मौत के बाद उनके अन्तिम संस्कार अपने अपने खेतों में किये गये है। ग्रामीणों ने बताया कि सेवा नगला व विसनपुरी में कोई मरघट नही है। जिन लोगों के पास खेत नही है उनके परिजनों के मरने पर उनके अन्तिम संस्कार की समस्या आती है। जिसका आज तक कोई समाधान नही हो पाया है। जिससे ग्रामीण परेशान है।

अंतिम संस्कार में उमड़ी भीड़ चार लोगों की मौत के बाद अंतिम संस्कार में लोगों की भीड़ उमड़ी।मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष चौ. ऋषिपाल सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष चौ. नत्थी सिंह, उमेश राघव, सभासद देवू शर्मा, सीताराम अग्रवाल, व्यापारी नेता कालीचरन सहित अन्य लोगों ने पहुंचकर शोकाकुल परिवार को सांत्वना दी। इंसेटये भी है घायलहादसे में घायल सेवा नगला निवासी अजय, विकास, कपिल आगरा के निजी हास्पिटल में भर्ती है। भोले, दिनेश, संजय, जीतू को अलीगढ के प्राइवेट हास्पिटल में भर्ती कराया गया है। नौरंगी लाल, छत्रपाल सिंह, योगेश कुमार, प्रीति, जगदीश का मेडिकल में उपचार चल रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Two more injured killed in road accident in Gonda