DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगल हत्याकांड में एसटीएफ के हाथ भी नहीं लग रहे अहम सुराग

खैर में व्यापारी विजय गंगल की हत्या में एसटीएफ को भी अभी अहम सुराग हाथ नहीं लगे हैं। जबकि एसटीएफ आधा दर्जन से अधिक संदिग्ध लोगों से पूछताछ कर चुकी है। पीड़ित परिजनों के बयान भी दर्ज कर लिए हैं। मगर अभी किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंची है, फिलहाल टीम वापस लौट गई है।खैर में 12 अप्रैल की रात व्यापारी विजय गंगल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। घटना उस वक्त हुई जब वह अपने प्रतिष्ठान पर पूर्व विधायक प्रमोद गौड़ के साथ बैठे थे। जैसे ही वह किसी काम से दुकान से निकले तभी बाइक सवार हमलावरों ने उन्हें निशाना बनाकर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी, जिसमें गोली लगने के कारण उनकी मौत हो गई थी। इस मामले में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। पिछले सवा महीने से जांच में जुटी स्थानीय पुलिस टीमों को कोई सफलता नहीं मिली तो मामले की जांच एसटीएफ लखनऊ को सौंप दी गई।24 मई को एसटीएफ टीम खैर में पहुंच गई। टीम ने नए सिरे से हत्याकांड की पड़ताल शुरू कर दी। 25 मई को टीम ने व्यापारी के परिजनों के बयान दर्ज किए। सूत्रों के मुताबिक टीम सात संदिग्ध लोगों को उठाकर उनसे भी पूछताछ कर चुकी है। वहीं, घटनास्थल के आसपास के लोगों से भी जानकारी जुटाई गई है। मगर अभी तक किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंची है। जांच करने के बाद टीम वापस लौट गई है। जबकि स्थानीय अधिकारियों का दावा है कि एसटीएफ टीम को हत्याकांड से संबंधित कुछ साक्ष्य मिल गए हैं।

व्यापारी विजय गंगल हत्याकांड में एसटीएफ द्वारा जांच की जा रही है। परिजनों के अलावा कुछ अन्य लोगों के भी बयान दर्ज किए गए हैं। टीम ने काफी अहम साक्ष्य जुटा लिए हैं। जल्द ही घटना का खुलासा हो सकता है।

-डॉ. यशवीर सिंह, एसपी देहात।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:STF does not even hand over key clues