DA Image
25 जनवरी, 2020|1:27|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्या करें क्या न करें ये कैसी मुश्किल हाय...

default image

एक महिला का दो पतियों से तलाक हो चुका है। महिला के तीन बच्चे हैं। बच्चे पहले पति के पास तो महिला दूसरे पति के साथ रहना चाहती है। लेकिन दूसरा पति महिला को रखने को तैयार नहीं है और पहले पति के पास महिला जाना नहीं चाहती। गुरुवार को ये मामला जिला अस्पताल स्थित 181 महिला हेल्पलाइन के वन स्टाफ सेंटर पर पहुंचा।

उत्तराखंड निवासी महिला ग्यारह साल पहले एक महिला के साथ अलीगढ़ आ गई थी। अलीगढ़ में वह जयगंज स्थित एक मोहल्ले में आकर रहने लगी। वहां रहने वाली एक महिला ने उसकी शादी 2012 अपने भाई से करा दी। दोनों को तीन बच्चे हुए। पति से तंग आकर संध्या ने अक्टूबर 2018 तलाक ले लिया। इसके बाद उसने घर के सामने रिश्तेदारी में रह रहे बुलंदशहर डिबाई निवासी से शादी कर ली। पहले पति ने बच्चों को अपने पास ही रखा। बच्चों का प्यार महिला को फिर खींच लाया। वह दूसरे पति को छोड़ पहले पति के घर बच्चों के साथ रहने लगी। इस दौरान दूसरे पति से भी तलाक हो गया। तलाक के बाद महिला दूसरे पति के साथ रहने के जिद पर अड़ी है। पहला पति महिला को रखने के लिए तैयार है, लेकिन महिला उसके साथ रहना नहीं चाहती।

मामला जिला अस्पताल स्थित 181 महिला हेल्पलाइन के वन स्टाफ सेंटर पर पहुंचा। मामला सुनने के बाद काउंसर सीमा अब्बास और महिला कांस्टेबल रास्ता निकालने में जुटे हैं। इसी दौरान महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी भी वहां पहुंच गईं। निरीक्षण के दौरान उनके सामने का मामला आया। इसे लेकर काफी देर तक राज्य महिला आयोग की सदस्य ने परिवार को समझाया मगर समस्या जस की तस बनी रही।

महिला संध्या का मामला बड़ा ही पेचीदा है। पहला पति बच्चों और महिला को रखने को तैयार है। मगर महिला दूसरे पति के साथ रहना चाहती है। इसके लिए शुक्रवार को दूसरे पति सागर को बुलाया गया है। वह महिला को साथ रखने को राजी होता है तो महिला को उसके साथ भेज दिया जाएगा। अन्यथा कोई और रास्ता निकाला जाएगा।

-सीमा अब्बास, काउंसलर, वन स्टाप सेंटर, महिला हेल्पलाइन।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Second husband refuses to keep woman does not want to go to first