Saturday, January 29, 2022
हमें फॉलो करें :

गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश अलीगढ़संशोधित: पूर्व ब्लाक प्रमुख की मौत के बाद 20 घंटे तक हंगामा, धरना प्रदर्शन

संशोधित: पूर्व ब्लाक प्रमुख की मौत के बाद 20 घंटे तक हंगामा, धरना प्रदर्शन

हिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Newswrap
Sat, 04 Dec 2021 09:25 PM
संशोधित: पूर्व ब्लाक प्रमुख की मौत के बाद 20 घंटे तक हंगामा, धरना प्रदर्शन

जहरीली शराब कांड-

-पोस्टमार्टम के बाद जेल में बंद पति को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए कराये अंतिम दर्शन

-मेडिकल कॉलेज से लेकर पोस्मार्टम हाउस पर हंगामा, सरकार के खिलाफ नारेबाजी

-रेनू शर्मा के परिजनों व गांव वालों ने भाजपा सांसद को पोस्टमार्टम हाउस से विरोध कर लौटाया

-भाजपा, कांग्रेस, सपा समेत अन्य राजनीतिक पार्टियों के नेताओं का दिनभर लगा रहा जमावड़ा

फोटो-

अलीगढ। कार्यालय संवाददाता।

जहरीली शराब कांड में जेल में बंद पूर्व ब्लाक प्रमुख रेनू शर्मा की मौत के बाद करीब 20 घंटें तक मेडिकल कॉलेज से लेकर पोस्टमार्टम हाउस तक हंगामा चला। परिजनों ने सांत्वना देने पहुंचे भाजपा सांसद व विधायक को मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए वापस लौटा दिया। मुख्यमंत्री से लेकर सरकार विरोधी नारेबाजी कर परिजनों व समर्थकों ने रोष जताया। परिजनों की मांग थी कि पहले जेल में बंद रेनू के पति ऋषि शर्मा व उसके बेटे को पेरोल पर लाया जाए, उसके बाद ही पोस्टमार्टम शुरू कराया जाएगा। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने पोस्टमार्टम हाउस पहुंचकर परिजनों को सांत्वना दी। दोपहर में पेरोल की अर्जी न्यायालय की ओर से खारिज कर दी गई। इसके बाद देर शाम विशेष पैनल के बीच पोस्टमार्टम कराकर रात्रि करीब नौ बजे शव को परिजनों के सुपुर्द किया गया।

बता दे कि जहरीली शराब के चलते लोधा क्षेत्र के करसुआ में 28 मई से मौतों का सिलसिला शुरू हुआ था। चार पांच दिनों में जिलेभर में करीब 109 लोगों की मौत हो गई थी। पुलिस ने प्रकरण को लेकर खैर, लोधा, पिसावा, गभाना, जवां, महुआखेड़ा, क्वार्सी थानों में 33 मुकदमे दर्ज किए थे। इसमें जवां थाना में दर्ज हुए मुकदमे में माफिया ऋषि, मुनी के अलावा ऋषि की पत्नी पूर्व ब्लॉक प्रमुख रेनू शर्मा को भी मुकदमें में नामजद किया गया था। जेल जाने के बाद रेनू शर्मा की तबीयत खराब होने लगी। बीते दिनों एडीजे-9 की अदालत में रेनू पर आरोप तय किए गए। उस समय रेनू को मेडिकल कालेज से एंबुलेंस के जरिए अदालत तक लाया गया था। इसी आधार पर हाईकोर्ट में जमानत अर्जी दायर की गई थी। हाईकोर्ट ने जमानत अर्जी मंजूर कर ली थी। बाद में साजिश की धारा शेष रह गई थी, जो स्थानीय अदालत ने मंजूर कर ली थी। जमानत मंजूर होने के बाद जमानतियों का सत्यापन हो रहा था। जल्द ही रेनू की रिहाई होने की संभावना थी। लेकिन शुक्रवार रात जेल में बंदी के दौरान रेनू ने दम तोड़ दिया। रेनू की मौत की सूचना मिलते ही उनके परिजन व समर्थक बड़ी संख्या में मेडिकल कॉलेज पहुंच गये। वहां से शव तडके पोस्टमार्टम हाउस लाया गया तो वहां बड़ी संख्या में भीड इकट्ठा हो गई। सभी की मांग थी कि जब तक रेनू के पति ऋषि व बेटे समेत अन्य छह लोगों को पेरोल पर नहीं छोड़ा जाएगा, तब तक पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू नहीं होने देंगे। इस बीच बरौली विधायक दलवीर सिंह व सांसद सतीश गौतम परिवार को सांत्वना देने पहुंचे। लेकिन परिजनों ने दोनों जनप्रतिनिधियों के मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए वापस लौटा दिया। भाजपा एमएलसी मानवेंद्र प्रताप सिंह, बुलंदशहर के पूर्व विधायक गुड्डू पंडित परिजनों के बीच पहुंचे और सांत्वना दी। सपा का प्रतिनिधि मंडल, कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल समेत अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं ने पोस्टमार्टम हाउस पहुंचकर परिजनों को सांत्वना दी और पुलिस कार्यप्रणाली की निंदा की। दोपहर बाद तक पेरोल पर छोड़ने की प्रक्रिया चलती रही। लेकिन जिला जज के यहां से अर्जी को खारिज कर दिया गया। उसके बाद परिजन मंडलायुक्त के यहां अर्जी लेकर गये। लेकिन वहां भी मायूसी हाथ लगी। देर शाम चिकित्सकों के विशेष पैनल के बीच पोस्टमार्टम शुरू हुआ। उसके बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। शव को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जवां के लिए रवाना किया गया।

वर्जन-

-रेनू शर्मा का पोस्टमार्टम विशेष पैनल से कराया गया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है। मामले में किसी की पैरोल की अनुमति नहीं मिल सकी थी।

कुलदीप गुनावत, एसपी सिटी

पति ऋषि को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए कराये अंतिम दर्शन

-पूर्व ब्लॉक प्रमुख रेनू शर्मा की मौत के बाद परिवार के किसी सदस्य को पैरोल नहीं मिल सकी थी। रेनू के पोस्टमार्टम के बाद उसके पति ऋषि शर्मा को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए पत्नी के अंतिम दर्शन कराये गये है।

विपिन मिश्रा, जेल अधीक्षक

epaper

संबंधित खबरें