DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अलीगढ़ › संक्रमक रोगों से मृत्यु दर में आई तेजी से गिरावट
अलीगढ़

संक्रमक रोगों से मृत्यु दर में आई तेजी से गिरावट

हिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Published By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:05 PM
संक्रमक रोगों से मृत्यु दर में आई तेजी से गिरावट

-जेएन मेडिकल कालिज में थायराइड लीजन्स पर सीएमई का आयोजन

अलीगढ़। कार्यालय संवाददाता।

एएमयू मेडिकल कॉलेज के पैथोलाजी विभाग में नोडुलर थायराइड लीजन्स इन द एज आफ प्रिसिजन मेडिसिन-व्हेयर डू वी स्टैंड‘ विषय पर सीएमई का आयोजन किया। विशेषज्ञों ने थायराइड नोड्यूल के उपचार के लिए आप्टीमल एप्रोच के साक्ष्य-आधारित सारांश और आनुवंशिक, पर्यावरणीय और जीवन शैली सम्बंधित कारकों के आधार पर नए क्लीनिकल और चिकित्सीय दृष्टिकोण पर चर्चा की।

प्रोफेसर सईदुल हसन आरिफ (अध्यक्ष, पैथोलाजी विभाग) ने कहा कि सटीक चिकित्सा स्वास्थ्य देखभाल के बारे में हमारे सोचने के तरीके को बदल रही है। संक्रामक रोगों और पुरानी और गैर-संक्रामक बीमारियों के कारण होने वाली मृत्यु दर में गिरावट आई है। उन्होंने देखभाल प्रक्रिया के साथ-साथ चिकित्सा शिक्षा, नैदानिक अनुसंधान और नैतिक मुद्दों में आनुवंशिकी और जीनोमिक्स के उपयोग के प्रभाव को चित्रित किया। प्रोफेसर अशरफ खान (यूनिवर्सिटी आफ मैसाचुसेट्स मेडिकल स्कूल, यूएसए) ने कहा कि थायराइड ग्रंथि के रोग आम हैं और इसमें प्रणालीगत बीमारी या थायरायड ग्रंथि में एक लोकलआज़ड असामान्यता जैसे नोडुलर इज़ाफ़ा या ट्यूमर मास का कारण बनने अले कारकों का एक स्पेक्ट्रम शामिल है। कार्यक्रम की आयोजन सचिव डॉ. बुशरा सिद्दीकी और डॉ. शगुफ्ता कादरी ने थायराइड साइटोपैथोलाजी की रिपोर्टिंग के लिए बेथेस्डा सिस्टम‘ पर बात की और केस स्टडी प्रस्तुत की। सत्र की अध्यक्षता प्रोफेसर वीणा माहेश्वरी, प्रोफेसर महबूब हसन और प्रोफेसर रूबिना खान ने की। दूसरे सत्र में प्रोफेसर सैयद हसन हारिस (सर्जरी विभाग) ने ‘थायराइड नोड्यूल्स के प्रबंधन के प्रति दृष्टिकोण‘ पर चर्चा की। डॉ. मोहम्मद शादाब आलम (रेडियोथेरेपी विभाग) ने थायराइड लीजन्स के निजीकृत उपचार-विकिरण आन्कोलाजिस्ट की भूमिकाश् पर बात की। प्रोफेसर शाहिद अली सिद्दीकी (प्रिंसिपल, जेएनएमसी), प्रोफेसर अतिया ज़काउररब (सर्जरी विभाग) और प्रोफेसर मोहम्मद जसीम हसन (पैथोलाजी विभाग) विभिन्न सत्रों के अध्यक्ष रहे। प्रोफेसर सईदुल हसन आरिफ ने समापन भाषण दिया। संचालन डॉ. शमायला समीन ने किया और डॉ. शगुफ्ता कादरी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

संबंधित खबरें