DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अलीगढ़ › सावन के पहले सोमवार पर भोलेनाथ के जलाभिषेक को उमड़ा आस्था का सैलाब
अलीगढ़

सावन के पहले सोमवार पर भोलेनाथ के जलाभिषेक को उमड़ा आस्था का सैलाब

संवाददाता,अलीगढ़। Published By: Sunil
Tue, 27 Jul 2021 12:01 AM
सावन के पहले सोमवार पर भोलेनाथ के जलाभिषेक को उमड़ा आस्था का सैलाब

सावन के पहले सोमवार पर शहर के शिवालायों जलाभिषेक के साथ हर हर माहदेव के उद्घोष से गूंज उठे। सुबह के समय शिवालयों पर उमड़ी भीड़ ने कोविड के सभी नियमों को तक पर रख दिया। सुबह चार बजे से ही मंदिरों में जलाभिषेक शुरू हुआ। लोगों ने ओम नमः शिवाय का जाप करते हुए जल चढ़ाया और भोग लगाया। प्राचीन खेरेश्वर मंदिर समेत शहर के दूसरे शिवालयों में भक्तों ने शिव का जलाभिषेक किया। शाम को शिव मंदिरों में विशेष श्रंगार किया गया। रात को खेरेश्वर महादेव मंदिर पर भव्य आरती का आयोजन किया गया।  
बता दें कि पिछले साल कोरोना के चलते सावन के सोमवार में मंदिर बंद रहे। लेकिन इस बार मंदिर खुले तो पहले ही दिन लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। भीड़ के चलते लोगों को लाइन में भी लगना पड़ा। मंदिर समितियों ने सेवादार लगाकर भीड़ को काबू किया। जबकि श्रद्धालुओं ने मन मुताबिक इच्छा के लिए जलाभिषेक किया। जगह-जगह मंदिरों में रुद्राभिषेक के कार्यक्रम भी आयोजित हुए। कई जगह तो वीडियो कॉलिंग के माध्यम से श्रद्धालुओं ने रुद्राभिषेक कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। शाम को श्रद्धालु भोलेनाथ के भव्य श्रंगार और फूल बंग्ला देखने के लिए मंदिरों में गए। महाआरती के बाद प्रसादी का वितरण किया गया। वहीं, कोरोना के चलते सामूहिक भंडारों का आयोजन नहीं हुआ। मंगलेश्वर महादेव मंदिर पर रुद्राभिषेक किया गया। रुद्राभिषेक आचार्य गोपाल कृष्ण शास्त्री व राजू पंडित द्वारा पूजा-अर्चना कराई गई इसमें मुख्य रूप से अंकित वार्ष्णेय प्रिंसी वार्ष्णेय, मिलिंद वार्ष्णेय, तन्मय वार्ष्णेय, आशीष वार्ष्णेय राजा, दीपांशु सीमेंट, दीनू वार्ष्णेय आदि मौजूद रहे। 

कोविड नियमों की उड़ी धज्जियां
मंदिरों में सुरक्षा व्यवस्था और कोविड नियमों पालन के लिए अलीगढ़ जिला प्रशासन द्वारा छह सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए गए हैं। लेकिन पहले सोमवार को उमड़े भक्तों की भीड़ ने सभी व्यवस्थाओं पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया। सोमवार सुबह चार बजे ही मंगलेश्वर महादेव मंदिर में भक्तों की जबरदस्त भीड़ रही। भीड़ को कंट्रोल करते करते मंदिर के सदस्यों का गल रौंध गया। मंगलेश्वर महादेव के मुख्य पुजारी आचार्य गोपाल कृष्ण भारद्वाज ने बताया कि भक्तों की भीड़ बेहद रही। सुबह चार बजे लेकर दिन की 12 बजे तक हजारों भक्तों ने जलाभिषेक किया। जबकि लोगों से बार बार अपील की जा रही थी पर कोई सुनने को तैयार न था। न तो भक्त मास्क लगा रहे, न ही सामाजिक दूरी का पालन कर रहे हैं।

अलीगढ़ खैरेश्वर महादेव में जलाभिषेक 
सावन के पहले सोमवार खैरेश्वर महादेव मंदिर में जलाभिषेक के लिए अल सुबह से ही लाइन लगी हुई थी। खैरेश्वर महादेव समिति के अध्यक्ष सत्यपाल सिंह ने बताया पहले सोमवार के दिन भक्तों की संख्या अधिक रही। हालांकि पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था होने की वजह से कोविड नियमों का पालन कराने की कोशिश की गई। श्रद्धालुओं की भीड़ को संभालने के लिए पुलिस के अलावा मंदिर के सेवायत भी सहयोग में जुटे रहे। पुलिस ने रविवार को ही रूट डायवर्जन की एडवाइजरी जारी कर दी। खेरेश्वर महादेव मंदिर में सोमवार की रात को महादेव का श्रृंगार किया। इसके साथ ही मंदिर में फूल बंगले के बीच भोलेनाथ के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं की देर रात तक भीड़ लगी रही।

संबंधित खबरें