DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मासूम बच्ची की बलि देने पर दंपति समेत तीन को आजीवन कारावास

जिला जज पीके सिंह की अदालत ने बेसवां क्षेत्र में ढाई साल पहले मासूम बच्ची की बलि देने के मामले में दंपति समेत तीन लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। संतान न होने पर दंपति ने बच्ची की बलि चढ़ाते हुए गला दबाकर हत्या कर दी थी। कोर्ट ने तीनों पर 15-15 हजार रुपये का अर्थदण्ड लगाया है। डीजीसी डा. अबसार किदवई के मुताबिक कस्बा बेसवां निवासी विनोद की दो वर्षीय बेटी मोहिनी 23 अक्टूबर 2015 को खेलते वक्त लापता हो गई थी। वह तीन भाइयों के बीच अकेली बहन थी। परिजनों ने उसे काफी तलाश किया मगर उसका पता नहीं चला। 24 अक्टूबर की सुबह परिजनों को पड़ोसी श्रीकिशन पर शक हुआ। उन्होंने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने श्रीकिशन के घर की तलाशी ली। इस दौरान जीने के नीचे जमीन में दबा हुआ बच्ची का शव बरामद हो गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आरोपी श्रीकिशन, उसकी पत्नी राखी, उसके बड़े भाई धर्म सिंह को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उन्होंने संतान प्राप्ति के लिए बच्ची की बलि देने की बात कबूल कर ली। पुलिस ने पिता की तहरीर पर तीनों के खिलाफ अपहरण कर हत्या करने का मुकदमा दर्ज कर लिया। कोर्ट ने साक्ष्य व गवाहों के बयानों के आधार पर तीनों को अपहरण के आरोप में तो बरी कर दिया, लेकिन हत्या कर साक्ष्य छिपाने में तीनों को दोषी पाते हुए आजीवन करावास की सजा सुनाई है।

हत्या व जानलेवा हमला में चार आरोपियों की जमानत खारिज

अलीगढ़। जिला जज पीके सिंह की अदालत ने हत्या व जानलेवा हमला के मामलों में चार आरोपियों की जमानत खारिज कर दी है। डीजीसी डा.अबसार किदवई के मुताबिक दहेज हत्या के मामले में अभियुक्त सरफुद्दीन उर्फ लहेटू निवासी इस्लाम नगर सादाबाद जनपद हाथरस की जमानत निरस्त कर दी है। दहेज को लेकर 14 मार्च 2018 को शाहरुन की हत्या कर दी गई थी। वहीं जानलेवा हमले के मामले में अभियुक्त रामगोपाल निवासी गोंडा अड्डा खैर की जमानत खारिज कर दी है। इधर, जानलेवा हमले में ही आरोपी सुरेश निवासी रैदा गुन्नौर संभल की जमानत खारिज कर दी है। इसके अलावा हमले के आरोपी सरजू यादव निवासी अवतार नगर सासनी गेट की जमानत भी जमानत निरस्त कर दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Life imprisonment for three, including a couple, on the sacrifice of innocent child